धनबाद में 595 में से 460 साइट का काम पूरा, मोनोलिथिक तकनीक से बनेंगे सस्ते घर

460-out-of-595 sites completed Dhanbad cheap home made monolithic techniquesधनबाद: झारखंड के धनबाद में अब झरिया पुनर्वास में तेजी देखने को मिल रही है. पुनर्वास के लिए 595 में से 460 साइट के लिए काम पूरा हो गया है. वहीं बांकी बचे साइट के सर्वे का काम नवंबर के अंत तक पूरा होने की उम्मीद है.  उपायुक्त ए दोड्डे ने यह जानकारी दी है.

झरिया पुनर्वास विकास प्राधिकरण के अंतर्गत बनाए जाने वाले आवास अब मोनोलिथिक टेक्नोलॉजी से बनाए जाएंगे. इस टेक्नोलॉजी से कम समय में में गुणवत्ता वाले आवास लोगों को उपलब्ध कराए जाएंगे. इसकी जानकारी डीपीआरओ ने दी है.




बता दें कि धनबाद के उपायुक्त ए दोड्डे ने विगत 12 एवं 13 नवंबर को चेन्नई के कांचीपुरम और  अन्ना नगर में इस टेक्नोलॉजी से बन रहे आवासीय निर्माण का जायजा लिया था. इस दौरान उन्होंने अन्ना नगर में आयकर विभाग के निर्मित आवासीय परिसर का भी निरिक्षण किया था. मालूम हो कि मोनोलिथिक टेक्नोलॉजी आवास निर्माण की नई तकनीक है. लिहाजा धनबाद शहरी क्षेत्र में भी पीएम आवास योजना में किया जाएगा.

17वीं एचपीसी की बैठक में धनबाद उपयुक्त ए दोड्डे को मोनोलिथिक टेक्नोलॉजी से हो रहे आवासीय निर्माण की साइट को देखने के लिए कहा गया था. इसी सन्दर्भ में उपायुक्त ने उपरोक्त साइट को देखा और निर्माण प्रक्रिया को समझा था. जेआरडीए द्वारा नवंबर माह के अंत तक सर्वे का काम पूरा कर लिया जाएगा. फ़िलहाल धनबाद में 460 साइट में सर्वे का काम पूरा कर लिया जाएगा. अगले दो-ढ़ाई साल में लोगों को नए घर में बसा दिया जाएगा. दस साल में पहली बार सर्वे का काम पूरा होने जा रहा है. बेलगड़िया में तीस हजार विस्थापितों के लिये आवास बनाया जाएगा.





Loading...
WhatsApp chat Live Chat