समन्वय समिति की बैठक में डोभा निर्माण कार्य अपूर्ण रहने पर सभी बीडीओ को लगी फटकार

समन्वय समिति की बैठकगुमला : विकास भवन के सभागार में उप विकास आयुक्त नागेन्द्र कुमार सिन्हा की अध्यक्षता में जिला स्तरीय समन्वय समिति की बैठक हुई. बैठक में जिला में चल रहे विकास एवं लोक कल्याणकारी योजनाओं पर चर्चा की गई. जिसमें मनरेगा द्वारा संचालित योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना, स्वच्छ भारत मिशन के तहत किये जा रहे कार्यों,  बैंक से संबंधित कार्य एवं जिला पंचायती राज द्वारा संचालित कार्यों की समीक्षा की गई.

इसे भी पढ़ें : इनकम टैक्स का सबसे बड़ा छापा, 163 करोड़ रुपए और 100 Kg सोना बरामद

 इसे भी पढ़ें : न्यूज 11 ने शराब के काले बाजार का किया भंडाफोड़, बेनकाब हुआ ये अधिकारी (देखें वीडियो)

अकुशल श्रमिकों के नियोजन मामले में गुमला फिसड्डी

समीक्षा के क्रम में अकुशल श्रमिकों का मनरेगा में नियोजन कराने में घाघरा व रायडीह प्रखण्ड के फिसड्डी रहने पर उप विकास आयुक्त ने प्रखण्ड के परियोजना पदाधिकारी को कड़ी फटकार लगाते हुए कार्य में रूचि नहीं दिखाने तथा लापरवाही के मामले पर स्पष्टीकरण पूछने का निर्देश संबंधित प्रखण्ड विकास पदाधिकारियों को दिया. उन्होंने बताया कि अकुशल श्रमिकों के नियोजन के मामले में 6.61 प्रतिशत के साथ गुमला राज्य में 23वें स्थान पर है.




इसे भी पढ़ें : ईडी की बड़ी कार्रवाई, मधु कोड़ा, विनोद सिन्हा, विकास सिन्हा और विजय जोशी पर चार्जशीट दाखिल

डोभा नि‍र्माण कार्य पूर्ण न होने पर जतायी नाराजगी

उन्होंने मनरेगा के तहत बन रहे डोभा निर्माण कार्य अबतक पूर्ण नहीं किये जाने के मामले में सभी प्रखण्ड विकास पदाधिकारियों को आड़े हाथों लिया एवं कहा कि राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी डोभा निर्माण योजना के लिए सारी राशि दी जा चुकी है, इसके बावजूद स्कीम पूरा नहीं होना खेदजनक है. वैसे लाभुक जो योजना के प्रति रूचि नहीं ले रहे हैं, उन योजना को बंद करें. श्री सिन्हा ने पूर्ण हो चुके डोभा की मापी पुष्टि कर उपयोगिता प्रमाण पत्र समर्पित करने का निर्देश प्रखण्ड विकास पदाधिकारियों को दिया.

कूप निर्माण के कार्य में सामग्री एवं लेबर कम्पोनेंट अनुपात का पालन नहीं किये जाने का मामला उजागर करते हुए उप विकास आयुक्त ने कहा कि मनरेगा अधिनियम के तहत निर्धारित अनुपात को पूरा कराएं. इसके अलावे इंदिरा आवास, पौधरोपण आदि की समीक्षा की गई. बैठक में उप विकास आयुक्त के अलावे डीआरडीए डायरेक्टर मुस्तकिम अंसारी, नेप निदेशक नयनतारा केरकेट्टा सहित प्रखण्ड विकास पदाधिकारी एवं बीपीओ प्रमुख रूप से मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें : भूमि अधिग्रहण संशोधन विधेयक पर विधानसभा में हंगामा, कार्यवाही स्‍थगित





WhatsApp chat Live Chat