Amitabh birthday: सदी के महानायक का जन्मदिन आज, जानें ये खास बातें

Amitabh birthday sadi ke mahanayak today know special things bollywoodमनोरंजन डेस्क: भारतीय सिनेमा लगभग 100 साल से अधिक पुरानी है. इन सौ सालों में कई कलाकारों को हमने देखा है. सिनेमा जगत में हर रोज नए कलाकार आते हैं. इनमें से कुछ एक दो फिल्मों के बाद गुमनाम हो जाते हैं और कुछ सदाबहार फूल की तरह खिले रहते हैं.

बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन इकलौते ऐसे कलाकार हैं जिन्हें कोई नापसंद नहीं करता. वह एक मात्र ऐसे सदाबहार सुपरस्टार हैं, जो लाखों लोगों की प्रेरणा के श्रोत हैं. आज सदी के महानायक अमिताभ बच्चन का 76वां जन्मदिन है.

अमिताभ बच्चन उन चंद अभिनेताओं में से हैं, जिनकी दमदार एक्टिंग ने उनके आलोचकों को भी चौंकाया. उनके उत्साह और काम ने उन्हें आज इस मुकाम पर पहुंचाया , जहां पहुंचने की हर कोई मनोकामना करता है. अमिताभ कई दशकों से बॉलीवुड में राज कर रहे हैं और उनकी आनेवाली फिल्म ‘ठग्स ऑफ़ हिन्दुस्तान’ है, जिसमें वह आमिर खान और कैटरिना कैफ के साथ नजर आएंगे.

अमिताभ की संघर्ष की कहानी जितनी रोमांचक है उतनी आकर्षक भी. अमिताभ बच्चन का जन्म 11 अक्टूबर 1942 को उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद में हुआ था. वह प्रसिद्ध कवि हरिवंश राय बच्चन के बेटे हैं और उनकी मां का नाम तेजी बच्चन था. साल 2003 में उनके सिर से उनके पिता का साया उठ गया और साल 2007 में उनकी मां ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया.

फिल्म इंडस्ट्री  में पहला कदम

अमिताभ को इस मुकाम तक पहुंचने के लिए बहुत संघर्ष करना पड़ा. शुरूआत में तो उन्हें उनके कद की वजह से फिल्मों में काम नहीं मिला. वहीं उनकी आवाज भी मजाब बनी. लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और उन्होंने अपने करियर की शुरुआत ख्वाजा अहमद अब्बास की फिल्म ‘सात हिन्दुस्तानी’ से की. इसके बाद उन्होंने  राजेश खन्ना के साथ फिल्म ‘आनंद’ में काम किया. इस फिल्म के लिए उन्हें पहला फिल्मफेयर अवार्ड मिला. इसके उन्होंने ‘परवाना, रेशमा, गुड्डी और बावर्ची जैसी फिल्मों में काम किया. लेकिन साल 1973 में आइ फिल्म ‘जंजीर’ उनके करियर में मील का पत्थर साबित हुआ. इस फिल्म के बाद वह एंग्री मैन बनकर उभरे और उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा.

अवार्ड्स

अमिताभ बच्चन को सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के लिए 4 राष्ट्रीय पुरस्कार मिल चुके हैं. वहीं उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर भी कई पुरस्कार जीते हिं. उन्हें 15 फिल्मफेयर अवार्ड मिले हैं. उन्हें साल 1984 में पद्मश्री, साल 2001 में पद्म भूषण और साल 2015 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया.

आज के इस दौर में भी अमिताभ अपने दिवंगत पिता हरिवंश राय बच्चन की विरासत यानी उनकी रचनाओं को संभाले हुए हैं और जब भी उन्हें मौका मिलता है वह अपने पिता की कविताओं  का कंसर्ट भी करते हैं और खुद कविताएं सुनाते हैं, जो की एक बड़ी बात है.

अमिताभ को है लीवर की समस्या




अमिताभ को लीवर की समस्या है और इसके कारण कई बार उन्हें अस्पताल में भर्ती होना पड़ा है. अमिताभ खुद को बूढ़ा नहीं दिखाना चाहते हैं. एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था कि हाथ पैरों से अगर इंसान का दिल और मन थक जाए तो बूढा जल्दी हो जाएगा. अमिताभ अभी बूढ़े नहीं हुए हैं और जल्द ही उनकी फिल्म ठग्स ऑफ़ हिंदुस्तान रिलीज़ होने वाली है.

 

View this post on Instagram

 

Off to work BRAHMASTRA .. no it’s not the look .. it’s setting out to face the rain and slush and the cold .. tough but rewarding

A post shared by Amitabh Bachchan (@amitabhbachchan) on





WhatsApp chat Live Chat