प्रशासन के वादाखिलाफी से नाराज ऑटो चालक गये हड़ताल पर, यात्री परेशान

बोकारो :  ऑटो भाड़ा में वृद्धि कराने और एजेंटों की मनमानी रोकने की मांग को लेकर सोमवार से चास-बोकारो के तमाम ऑटो चालक बेमियादी हड़ताल पर चले गये. प्रशासन ने एक सप्ताह पहले मांगों के आलोक में कार्रवाई का आश्वासन दिया था, लेकिन कुछ नहीं हुआ. एसडीओ सतीश चन्द्रा तथा महापौर भोलू पासवान की मौजूदगी में आहुत उक्त बैठक में ऑटो चालकों के साथ वार्ता हुई थी. तय समय-सीमा में उक्त मांगों को लेकर कोई कार्रवाई नहीं होने से पूर्व घोषित निर्णयानुसार सोमवार से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गये और इसका खामियाजा आमलोग भुगतने लगे हैं. हड़ताल से सबसे ज्यादा परेशानी आम यात्रियों को हुई. नया मोड़ से फुसरो, जैनामोड़, सेक्टर-नौ, चास समेत अन्य जगहों पर जाने वाले यात्री काफी परेशान दिख रहे हैं. जानलेवा चिलचिलाती धूप में पसीने से तर-बतर लोग कई किलोमीटर तक भारी सामानों के साथ पैदल चलने को मजबूर दिखें. छोटे-छोटे बच्चों को लेकर चलने वाले यात्रियों की दुर्दशा तो दयनीय हो गयी. ऑटो नहीं मिलने से आम यात्री वाहनों का इंतजार करते दिखे. वहीं इक्का-दुक्का चल रहे रिजर्व्ड ऑटो को भी बंद समर्थकों के द्वारा बंद कराया गया. प्रशासनिक अनदेखी का खामियाजा आमलोग भुगतते रहे. इस संबंध में जिले के उपायुक्त मृत्युंजय कुमार वर्णवाल से भी सम्पर्क किया गया, परंतु समाचार लिखे जाने तक उनका कोई जवाब नहीं मिला.




इसे भी पढ़े : नशेड़ी पिता ने पार की क्रूरता की हद, पिटाई के बाद दो बच्चियों को दफ़नाने की कोशिश की

31 मई को हुई थी एसडीओ समेत अन्य पदाधिकारियों के साथ वार्ता

गौरतलब है कि टेंपू चालक संघ की वार्ता 31 मई को एसडीओ समेत अन्य पदाधिकारियों के साथ हुई थी, जिसमें मूल्य-वृद्धि और एजेंटों की मनमानी समेत कई मुद्दों को रखा गया था. बैठक में एसडीओ चास सतीश चंद्र ने एक सप्ताह का समय मांगा था, लेकिन एक सप्ताह बीत जाने के बाद भी चालकों की समस्या का समाधान नहीं किया गया और आज एक बार फिर ऑटो चालक संघ अपनी मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए और इसका कुपरिणाम यात्री भुगत रहे हैं.

इसे भी पढ़े : फिर सामने आई बिहार बोर्ड की गड़बड़ी, गायब हुई इंटर की 213 कॉपियां

ऑटो चालकों का कहना है कि रेलवे स्टेशन पर प्रति ट्रिप अब भी 15 रुपये लिये जा रहे हैं, जबकि 12 घंटे का 15 रुपये लेना है. वहीं चास में एजेंटी 5 रुपए से 10 रुपये और 10 रुपये से 20 रुपए कर दिया गया है. वहां एजेंटों के द्वारा 24 घंटे के लिए एक ही बार 20 रुपये लिया जा रहा है, जो जायज नहीं है.

इसे भी पढ़े : अवैध मिनी शराब फैक्टरी का उद्भेदन, तीन गिरफ्तार, भारी मात्रा में शराब व बोतलें बरामद





Loading...
WhatsApp chat Live Chat