NEWS11

विश्व आदिवासी दिवस पर बोले अर्जुन मुंडा, कहा – जनजातीय संस्कृति और भाषा को विलुप्ति से बचना है

रांची:  विश्व आदिवासी दिवस के मौके पर केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा और उनकी पत्नी मीरा मुंडा रांची के राजेंद्र चौक में पद यात्रा में शामिल हुए.  भारत मुंडा समाज के द्वारा प्रत्येक वर्ष राजेंद्र चौक से विश्व आदिवासी दिवस पर शोभा यात्रा निकाली जाती है.

क्यों मनाया जाता है विश्व मूलनिवासी दिवस ?

मूलनिवासियों के मानवाधिकारों को लागू करने और उनके संरक्षण के लिए 1982 में UNO (संयुक्त राष्ट्र संघ) ने एक कार्यदल UNWGIP (United Nations Working Group on Indigenous Populations) के उपआयोग का गठन किया. जिसकी पहली बैठक 9 अगस्त 1982 को हुई थी. इसलिए, हर वर्ष 9 अगस्त को “विश्व मूलनिवासी दिवस” UNO द्वारा अपने कार्यालय में एवं अपने सदस्य देशों को मनाने का निर्देश है.

UNO ने यह महसूस किया कि 21वीं सदी में भी विश्व के विभिन्न देशों में निवासरत मूलनिवासी समाज अपनी उपेक्षा, बेरोजगारी एवं बंधुआ बाल मजदूरी जैसी समस्याओं से ग्रसित है. 1993 में UNWGIP कार्य दल के 11 वें अधिवेशन में मूलनिवासी घोषणा प्रारूप को मान्यता मिलने पर 1994 को “मूलनिवासी वर्ष” व 9 अगस्त को “मूलनिवासी दिवस” घोषित किया.

कब मनाया गया प्रथम अन्तर्राष्ट्रीय मूलनिवासी दिवस ?

मूलनिवासियों को हक अधिकार दिलाने और उनकी समस्याओं का निराकरण, भाषा, संस्कृति, इतिहास के संरक्षण के लिए UNO की महासभा द्वारा 9 अगस्त 1994 को जेनेवा शहर में विश्व के मूलनिवासी प्रतिनिधियों का विश्व का “प्रथम अन्तर्राष्ट्रीय मूलनिवासी दिवस” सम्मेलन का आयोजित किया गया.

मूलनिवासियों की संस्कृति, भाषा, उनके हक अधिकारों को सभी ने एक मत से स्वीकार किया और उनके सभी हक अधिकार बरकरार रहें इस बात की पुष्टि कर दी गई. UNO ने “हम आपके साथ हैं”, यह वचन मूलनिवासियों को दिया गया. UNO ने व्यापक चर्चा के बाद 21 दिसंबर 1994 से 20 दिसंबर 2004 तक “प्रथम मूलनिवासी दशक” और प्रत्येक वर्ष 9 अगस्त को International Day of the World’s Indigenous Peoples (विश्व मूलनिवासी दिवस) मनाने का फैसला लिया और विश्व के सभी देशों को मनाने के निर्देश दिए.

 

विश्व आदिवासी दिवस पर केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा से न्यूज़ 11 की ख़ास बातचीत…

 

 

Related posts

कभी हुआ करता था एचईसी का मुख्य मंच, आज बना बदहाल

Sumeet Roy

गोकुल वृन्दावन की तरह सज़ा हैप्पी फीट स्कूल का प्रांगन, बाल कृष्णा ने प्रस्तुत किया मनोरंजक कार्यक्रम…

Sumeet Roy

दो बाइक की सीधी टक्‍कर में एक छात्र की मौत, 5 घायल

Rajesh

बहुचर्चित तारा शाहदेव लव जेहाद मामला : कल आ सकता है कोर्ट का फैसला

Pawan

आजसू को चाहिए बड़ी हिस्‍सेदारी, 8 नहीं 20 सीट पर ठोक रही ताल

Rajesh

मच्छरों से हार रहे जंगलों में नक्सलियों से लोहा लेने वाले जवान

Pawan
WhatsApp chat Live Chat