NEWS11

Godda Jharkhand Jharkhand Top Politics

जैसे-जैसे नजदीक आ रहा अंतिम चरण का चुनाव, वैसे-वैसे बढ़ने लगी प्रतिद्वंदियों के बीच आरोपों का झड़ी

अरुण बरनवाल/विकास

गोड्डा : झारखंड के अंतिम चरण का चुनाव जैसे-जैसे नजदीक आता जा रहा है, वैसे-वैसे प्रतिद्वंदियों के बीच आरोप-प्रत्यारोप की झड़ी लगने लगी है. संथाल परगना का गोड्डा लोकसभा क्षेत्र भी इससे अछूता नहीं है. यहां एक ओर जहां महागंठबंधन के नेता लगातार दो बार इस क्षेत्र का लोकसभा में प्रतिनिधित्व करने वाले बीजेपी सांसद निशिकांत दूबे और बीजेपी सरकार पर गरीब विरोधी होने का आरोप लगाया तो वहीं दूसरी ओर बीजेपी श्री दुबे को विकास पुरुष की संज्ञा दे रही है.

संथाल परगना की तीन सीटों में से एकमात्र गोड्डा लोकसभा सीट पर लगातार दो बार से बीजेपी का कब्जा रहा है. विपक्षियों के एकजुट नहीं होने के कारण बीजेपी इस सीट पर लीड लेते आ रही है, परंतु इस बार जिस मजबूती के साथ जेवीएम, जेएमएम, कांग्रेस व दूसरे अन्य दलों का महागंठबंधन डटा हुआ है. बीजेपी को अपनी सीट बचाने के लिये नाकों चने चबाना पड़ रहा है. बीजेपी ने अंतिम चरण के वोटिंग के लिये एक तरह से कहें तो अपने तमाम स्टार प्रचारकों को मैदान में उतार दिया है. बीजेपी अपनी वर्तमान सीट के साथ साथ दो अन्य सीट दुमका व राजमहल पर भी कैसे जीत हासिल हो इसके लिये कोई कोरकसर नहीं छोड़ रही. इस कड़ी में बुधवार को पार्टी के सुपरस्टार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को गोड्डा लोकसभा के देवघर में चुनावी सभा का आयोजन कर मतदाताओं तक अपनी बात पहुंचाने का प्रयास किया. परंतु विपक्षी इसे व्यर्थ मान रहे हैं. जेवीएम जिला प्रवक्ता की माने तो गोड्डा की जनता अब बहकावे में नहीं आने वाली. लोग इसबार स्थानीय मुद्दों को तरजीह देने वाली है. उन्होंने सांसद श्री दुबे पर आरोप लगाते हुए कहा कि उन्हें क्षेत्र की समस्या से कोई मतलब नहीं है सिर्फ अडानी के हितों का ख्याल रहता है, जबकि यहां की जनता को निरंतर पानी, बिजली जैसी मूलभूत समस्याओं से दो चार होना पड़ रहा है. उन्होंने यहां लोगों को रोजगार के लिये पलायन करने से रोकने और शिक्षा के क्षेत्र में भी कोई प्रयास नहीं करने का आरोप लगाया.

दूसरी ओर बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे को विकास पुरूष बताते हुए उनके कार्यकाल में क्षेत्र में रेल सेवा चालू होने के साथ-साथ एम्स और एयरपोर्ट लाने की बात कहते हैं. बीजेपी ओबीसी मोर्चा के जिला महामंत्री के अनुसार सांसद ने क्षेत्र का चहुमुखी विकास किया है, विरोधियों को यदि यह सब नहीं दिखता है तो कोई क्या करे. उन्होंने महागठबंधन की एकजुटता से कोई प्रभाव नहीं पड़ने और पीएम की सभा के बाद जनता का रुझान बढ़ने के कारण संथाल की तीनों सीटों पर जीतने का दावा किया.

बहरहाल किसके दावों में कितना दम है इसका पता आगामी 23 मई को मतगणना के बाद पता चलेगा. लेकिन जनता जो इस लोकतंत्र में सर्वोपरि है. वह अब नेताओं के बयानों पर नहीं चलने वाली, बल्कि उसे अपने सही जनप्रतिनिधि का चयन करना भलीभांति आता है और वह 19 मई को दिख भी जायेगा.

Related posts

फोटोग्राफर का कैमरा लूटने वाले चार लूटेरे गिरफ्तार, सामान बरामद

Pawan

प्रिंसिपल व सहयोगी शिक्षकों ने शिक्षिका को पीटा, गर्भ में हो गयी 8 माह के बच्चे की मौत

Pawan

रामगढ़ : बाइक चोर गिरोह का पर्दाफाश, तीन गिरफ्तार व तीन बाइक बरामद

Pawan

लाह चुड़ी प्रशिक्षण प्राप्त कर रही  महिला मंडली ने मनाया सावन उत्सव, एक-दूसरे को लगाया मेहंदी

Pawan

13 माह के लंबे इंतजार के बाद गंगोत्री का गंगाजल पहुंचा धनबाद, डाक विभाग मंदिरों में लगायेगा स्टॉल

Pawan

समय के साथ सुलझ जायेगा मंत्री सीपी सिंह व सांसद महेश पोद्दार का मामला : बीजेपी

Pawan
WhatsApp chat Live Chat