विधानसभा में गूंजा स्‍वामी अग्निवेश के साथ हुए मारपीट का मामला, हो-हंगामा के बीच कार्यवाही स्‍थगित

रांची : झारखंड विधानसभा के मानसून सत्र के तीसरे दिन भी हंगामा के साथ कार्यवाही की शुरुआत हुई. विपक्षी दलों ने स्वामी अग्निवेश पर हुए हमले को लेकर हंगामा करने लगे. सरकार पर दोषियों को बचाने का भी आरोप लगाया. इस बीच विपक्षी दलों ने सरकार के खिलाफ आरोप लगाते हुए वेल में आ गए.

सीपी सिंह ने अग्निवेश को बताया विदेशी दलाल

 मंत्री सीपी सिंह ने स्वामी अग्निवेश को विदेशी दलाल और फ्राड बताया. जेवीएम के विधायक प्रदीप यादव ने कार्यस्थगन प्रस्ताव लाया था जिसे नामंजूर कर दिया गया. वहीं, मंत्री नीलकंठ सिंह मुंडा ने कहा कि सीएम इस मामले को लेकर गंभीर हैं. मुख्यमंत्री इस मामले में जांच के लिए गृह सचिव को निर्देश दिया है. जो भी दोषी होगा उसपर कार्रवाई होगी.




बलात्कारियों का दलाल है विपक्ष : सीपी सिंह

सदन में संसदीय कार्यमंत्री नीलकंठ सिंह मुंडा ने कहा कि जब खूंटी में पांच युवतियों के साथ दुष्कर्म की घटना सामने आई तो विपक्ष क्यों चुप था. इस मसले पर मंत्री सीपी सिंह विपक्ष को बलात्कारियों का दलाल कहा. हंगामा को देखते हुए विधानसभा अध्यक्ष दिनेश उरांव ने दोपहर 12:45 तक कार्यवाही स्थगित कर दी.

स्पीकर ने सदन की गतिरोध पर जताई चिंता

12:45 बजे के बाद सदन की कार्यवाही जैसे ही शुरू हुई तो झामुमो के स्टीफन मरांडी ने स्वामी अग्निवेश के साथ हुई घटना पर सीएम रघुवर दास से जवाब मांगने लगे. स्टीफन मरांडी ने कहा कि पाकुड़ की घटना से पूरे देश में झारखंड की बदनामी हुई है. इस बीच स्पीकर ने सदन की गतिरोध पर चिंता जताई. उन्होंने कहा कि संसदीय लोकतंत्र के लिए यह अच्छा नहीं है. स्पीकर ने कहा कि दो दिन से सदन बाधित हो रहा है जो चिंता का विषय है.





WhatsApp chat Live Chat