हरि मंदिर परिसर में बदली हो गये बाल-गोपाल, वापसी के लिए पति-पत्नी लगा रहे थाने का चक्कर

गोपालधनबाद : भगवान के प्रति इतनी आस्था कि एक भक्त अपने भगवान को पाने के लिए पुलिस तक पहुंच गया. पुलिस ने यदि उन्हें उनका भगवान वापस नहीं दिलाया तो वह सुप्रीम कोर्ट तक भी जाने को तैयार है. भक्त और भगवान के बीच मंदिर के पुजारी कटघरे में खड़े नजर आ रहे हैं. क्या है इस कहानी की पूरी हकीकत जानिए इस रिपोर्ट में.

भक्त और भगवान के बीच कटघरे में खड़े मंदिर की पुजारी की यह कहानी धनबाद के हीरापुर की है. हीरापुर के जेसी मल्लिक के रहने वाले बुजुर्ग दंपत्ति चंदन सरकार एवं कृष्णा सरकार ने अपने लड्डू गोपाल को प्रतिदिन पूजा करने के उद्देश्य से हरिमंदिर के पुजारी गोपाल गांगुली को दिया था. कृष्णा हार्ट की मरीज हैं, उनके इलाज के लिए कुछ महीने बाहर जाने के दौरान उन्होंने यह बाल गोपाल की मूर्ति को मंदिर के पुजारी को सौंप दिया. आठ महीने बाद पुजारी जिस बाल गोपाल की मूर्ति को लौटा रहे हैं, उसे वह अपनी मूर्ति मानने से इनकार कर रहे हैं. दंपत्ति का कहना है कि उसे वही मूर्ति चाहिए. उनका यह बाल गोपाल अष्टधातु की है और पिछले डेढ़ सौ साल से उनके पूर्वज इनकी पूजा करते आ रहे हैं. भक्त की माने तो उनके बाल गोपाल में एक शक्ति विराजमान है, जिससे उनका घर सुख समृद्ध हैं. भक्त द्वारा भगवान को पाने के लिए पुलिस से गुहार लगाई गई है. यदि उनका भगवान उन्हें वापस नहीं मिलता तो वह सुर्पीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाने को तैयार है.




मंदिर के पुजारी भक्त के इन आरोपों को निराधार बता रहे हैं. पुजारी का कहना है कि श्री कृष्ण जन्माष्टमी के दिन मंदिर में दर्जनों से अधिक बाल गोपाल की मूर्ति पूजा  के लिए आते हैं. इस दिन श्रद्धालुओं की भींड  मंदिर में काफी रहती है. उनका बाल गोपाल किसी श्रद्धालु के पास गलती से चला गया होगा. उन्होंने लोगों से अपील भी की है कि यदि किन्ही के पास वह मूर्ति गई हो तो उसे वापस मंदिर में लौटा दें. उन्होंने कहा कि हम तीन पीढ़ियों से यहां पूजा कर रहें है लेकिन कभी पुलिस का सामना नहीं करना पड़ा. पुलिस के आने से मुझे दुःख जरूर हुआ है, लेकिन मैंने पुलिस को सारी सच्चाई बता दी है.





Loading...
WhatsApp chat Live Chat