राजस्व संग्रहण में धनबाद नगर निगम का बेहतर प्रदर्शन, तीन माह में 6 करोड़ वसूले

नगर आयुक्तधनबाद : बीते वित्तीय वर्ष 2017-18 में राजस्व संग्रहण में काफी खराब प्रदर्शन करने वाला धनबाद नगर निगम चालू वित्तीय वर्ष में अच्छा प्रदर्शन कर रहा है. चालू वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही अर्थात 30 जून, 2018 तक के आंकड़ों पर नजर डालें तो पिछले एक साल के राजस्व वसूली की राशि का आधा तीन माह में ही वसूली कर ली गई. निगम से मिली जानकारी के अनुसार पिछले वित्तीय वर्ष में जहां नगर निगम ने होल्डिंग, पेयजल और ट्रेड फीस मद में 11 करोड़ से अधिक की वसूली की थी, वहीं चालू वित्तीय वर्ष के तीन महीने में ही लगभग छह करोड़ की वसूली कर ली गयी है.

धनबाद नगर निगम ने घर-घर जाकर टैक्स कलेक्शन करने के लिए लगभग 150 युवाओं की स्वयंसेवकों की टीम तैयार की है, जो होल्डिंग, पेयजल और ट्रेड फीस कलेक्शन के लिये अलग-अलग टीमों में बंटकर टैक्‍स कलेक्‍शन का काम कर रही है. जिले के युवाओं को आउटसोर्स के माध्यम से नियोजन देने वाला धनबाद नगर निगम ने इन्हें मैदान में उतारने से पहले एक पखवारा का प्रशिक्षण भी दिया है, जिसका असर अब होने लगा है.

इसे भी पढ़ें : इनकम टैक्स का सबसे बड़ा छापा, 163 करोड़ रुपए और 100 Kg सोना बरामद

 इसे भी पढ़ें : न्यूज 11 ने शराब के काले बाजार का किया भंडाफोड़, बेनकाब हुआ ये अधिकारी (देखें वीडियो)

वर्तमान में प्रतिदिन 15 से 16 लाख राशि की हो रही वसूली




नगर आयुक्त ने न्यूज 11 से बात करते हुए कहा कि निगम के पास राजस्व को बढ़ाने के लिये कई योजनाएं है, जिसपर हम तेज गति से काम कर रहे हैं. इसी आलोक में निगम ने 150 वार्ड स्वयंसेवकों की बहाली की है, जो पूरी तरह टैक्स कलेक्शन का काम करेगी. उन्होंने कहा कि छह माह पहले निगम को जहां प्रतिदिन डेढ़ लाख के राजस्व की वसूली होती थी, वह वर्तमान में प्रतिदिन 15 से 16 लाख की राशि तक पहुंच गयी है. नगर आयुक्त ने कहा कि एक ओर जहां इंदौर में 400 करोड़ की वसूली प्रतिवर्ष होती है, वहीं अहमदाबाद में यह राशि 900 करोड़ की है. अतः हम धनबाद नगर निगम को राजस्व में इतना बेहतर बनाना चाहते हैं कि हम न सिर्फ अपने कर्मचारियों को सैलरी दे सकें, बल्कि निगम का विकास भी ठीक कर सकें.

इसे भी पढ़ें : भूमि अधिग्रहण संशोधन विधेयक पर विधानसभा में हंगामा, कार्यवाही स्‍थगित

बीसीसीएल व कुछ बड़ी एजेंसियां है, जहां से टैक्स नहीं मिल रहा है : नगर आयुक्‍त

नगर आयुक्त ने निगम के राजस्व वसूली के लक्ष्य को पूरा करने में होने वाली परेशानियों का भी जिक्र किया. उन्होंने जानकारी देते हुए कहा कि नगर निगम क्षेत्र में मेजर पोरसन बीसीसीएल व कुछ बड़ी एजेंसियां है, जहां से हमें टैक्स नहीं मिल रहा है, जिसके कारण हमें टारगेट हासिल करने में परेशानी हो रही है. उन्होंने बताया कि सरकारी भवनों से टैक्स वसूली के निगम तेज गति से काम कर रहा है और संभावना है कि निगम के कनेक्शन में इससे निश्चित रूप से इजाफा होगा. नगर आयुक्त ने चालू वित्तीय वर्ष में राजस्व वसूली का लक्ष्य पिछले साल के वनिस्पत इस साल तीन गुणा अधिक राशि राजस्व वसूली की बात कही.

इसे भी पढ़ें : कैबिनेट मीटिंग : मगही, भोजपुरी, मैथिली तथा अंगिका झारखण्ड की द्वितीय राजभाषा बनी





WhatsApp chat Live Chat