BREAKING

धनबाद : झारखंड के एक गांव का हाल, 4 दिन की चांदनी फिर अंधेरी रात

bijli dhanbaad pradhanmantri har ghar bijli 4 दिन की चांदनी  फिर अंधेरी रातधनबाद : एक ओर  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने  देशवासियों को निशुल्क बिजली कनेक्शन देने के लिए सौभाग्य योजना की शुरुआत की है. इस योजना के तहत 2019 से पहले देश के सभी BPL परिवारों को निशुल्क बिजली का कनेक्शन दिया जाना है. वहीं झारखंड सरकार 2018 तक सुबे के प्रत्येक गांव में बिजली देने का ऐलान कर चुकी है. सरकार के मुखिया रघुवर दास  का कहना है कि अगर हर घर को बिजली नहीं पहुंचाया तो वोट मांगने जनता के बीच नहीं जाएंगे.

 

हम बात कर रहे हैं धनबाद जिले के  टुंडी प्रखंड के अति नक्सल प्रभावित मनियाडीह के गादीटांड  गांव  का , जहां के लोगों ने पिछले 4 वर्षों से बिजली का बल्ब जलते हुए  नहीं देखा है.  4 वर्ष पहले चुनाव से ठीक पहले तत्कालीन स्थानीय विधायक मथुरा महतो ने  बिजली के खंभे लगवाये  थे, तार भी खंभों से झूलाए गए थे. लोगों ने महज 1 या 2 दिन बिजली के बल्ब जलाए, लेकिन उसके बाद जो अंधेरा उनके जीवन में आया आज तक अंधेरा ही है. पास के गांव वालों ने ओवरलोड की बात कह कर ट्रांसफॉर्मर से इस गांव  की बिजली काट दी है. उसके बाद से लगातार ग्रामीण संबंधित अधिकारी और इसके अलावा स्थानीय जनप्रतिनिधियों की दरबार में हाजिरी लगा रहे है. गुहार लगा रहे हैं. मिन्नतें कर रहे हैं, लेकिन इन्हें आज तक बिजली नसीब नहीं हुआ.



 

सौभाग्य योजना की शुरुआत के बाद लोगों ने उपभोक्ता बनने के लिए आवेदन दिया. गांव के 19 लोग उपभोक्ता बन गए, लेकिन उपभोक्ता बनने के बावजूद 300 आबादी वाले इस गांव को आज तक बिजली उपलब्ध नहीं हो पाई.

 

यहां निवास करने वाले ग्रामीणों का कहना है कि बिजली के बिना इन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है. बच्चे की पढ़ाई हो या फिर गर्मी का समय हर वक्त बिजली के अभाव के कारण लालटेन युग में जीने के लिए यह मजबूर रहते हैं. खासकर बरसात के दिनों में ग्रामीण क्षेत्रों में सांप बिच्छू की समस्या ज्यादा होती है. बिजली नहीं रहने के कारण इन्हें इन समस्याओं से भी जूझना पड़ता है. महिलाओं का कहना है कि पूरे देश में बिजली मोदी सरकार दे रही है तो क्या हमारा गांव ऐसे ही अंधेरे में रहेगा क्या? हम बिजली के काबिल नहीं है. कुछ ग्रामीणों का कहना है कि उन्होंने जब से होश संभाला है. इस गांव में बिजली देखा ही नहीं बिजली के खंभे तो दिख रहे हैं लेकिन बिजली कब नसीब होगी उन्हें पता नहीं.

वहीं जिले के बिजली विभाग के GM सुभाष कुमार सिंह का कहना है कि हर गांव को बिजली पहुंचाना सरकार का मकसद है. बिजली विभाग किसी भी गांव को अंधेरे में नहीं छोड़ेगी और यह मामला उनके संज्ञान में नहीं था अब उन्हें पता चल गया है. और बहुत जल्द अधिकारियों की टीम उस गांव का दौरा करेंगे और इस गांव में बिजली कैसे जले इस बात को सुनिश्चित किया जाएगा. वहीं उन्होंने बताया कि दिसंबर माह तक जिले के सभी गांव सभी घर में बिजली पहुंचा दी जाएगी.



WhatsApp chat Live Chat