भाजपा नेता और जिपस सुभाषचंद्र सरदार का लंबी बीमारी के बाद निधन, अंतिम दर्शन को उमड़ी भीड़

भाजपा नेता सुभाष चन्द्र सरदार का निधन घाटशिला : घाटशिला में बजरंग दल के संस्‍थापक और भाजपा की नींव रखने वाले ईमानदार और  जुझारू नेता जिला परिषद सदस्य सुभाषचंद्र सरदार का लम्बी बीमारी के बाद निधन हो गया. भाजपा नेता सुभाष चन्द्र सरदार के निधन की खबर से क्षेत्र में शोक की लहर दौड़ गयी.

आम जनता के लिए आंदोलन करने वाले नेता के रूप में जाने जाते थे सुभाषचंद्र सरदार

सुभाषचन्द्र सरदार घाटशिला और मुसाबनी में आम-जनता के लिए आन्दोलन करने वाले नेता के रूप में जाने-जाते थे. चाहे टाउनशिप के क्वार्टर का मामला हो या इसमें पानी, बिजली का मामला हो. सभी समस्या यहां के लोग सभी दलगत भावनाओं के साथ उठकर सुभाष सरदार की अगुवाई में लड़ते रहे. 90 के दशक में घाटशिला और आसपास में सुभाष चन्द्र सरदार की तूती बोलती थी. सुभाष अपने क्षेत्र के लोगों और समर्थकों के लिए किसी भी हद तक जाने को तैयार रहते थे, इसी का नतीजा रहा कि सुभाष चन्द्र सरदार झारखण्ड में हुए पंचायत चुनाव में बिना किसी प्रचार और बिना किसी पैसे के जिला परिषद के चेयरमैन सोनिया सामंत को आमलोगों के सहयोग से हरा दिया. जिसके बाद सुभाष के ईमानदारी  और भाईचारे की और मिशाल लोगों के द्वारा दी जाने लगी.

इसे भी पढ़ें : सरकार-संवेदक विवाद में एनएच 99 व 100 गड्ढ़े में तब्दील, जान हथेली पर रखकर सफर कर रहे लोग (देखें वीडियो)  

आम लोगों के हितों के लिए अपनी पार्टी से भी बगावत कर लेते थे सरदार




सुभाष सरदार आम लोगों के हित के लिए अपने पार्टी से भी बगावत करने से परहेज नहीं करते थे. पार्टी में राज्य और केंद्र स्तर के सभी नेता सुभाष चन्द्र सरदार के ईमानदारी और काबिलियत का लोहा मानते थे.  इसलिए पिछले पंचायत चुनाव में दलगत चुनाव नहीं होने पर भी भाजपा और मुख्यमंत्री रघुवर दास के द्वारा स्वयं सुभाष सरदार को जितवाने का हर संभव प्रयास किया था, परन्तु सुभाष जिला परिषद् बनने के बाद किडनी की बीमारी से ग्रसित हो गये,  जिसे पार्टी और सरकार के सहयोग से हरसंभव इलाज करवाया गया, परन्तु उन्हें बचाया नहीं जा सका.

इसे भी पढ़ें : धनबाद के किसानों ने वैज्ञानिकों को दी मात, आग पर खेती कर लायी हरियाली

अंतिम दर्शन करने पहुंचे कई अधिकारी और नेता

इनकी मौत के बाद आम और खास लोगों का इनके आवास पर इनके अंतिम दर्शन और श्रद्धांजलि देने के लिए तांता लगा रहा. इनके अंतिम दर्शन के लिए पूर्वी सिंहभूम के डीडीसी बी.माहेश्वरी, पूर्व राज्यसभा सांसद कांग्रेस के वरिष्ट नेता डॉ.प्रदीप कुमार बालमुचू, विधायक लक्ष्‍मण टुडू, डीएसपी अजित कुमार विमल, सीओ साधू चरण देवगम, बीडीओ संतोष कुमार गुप्ता, जिला परिषद चेयरमैन बुलु रानी सिंह, अध्यक्ष राजकुमार सिंह, जिला परिषद सदस्य देवयानी मुर्मू, झामुमो नेता बघराई मार्डी, बलबती मुर्मू, आरती सामद जिला के सभी प्रखंडों के जिला परिषद् सदस्य और मुखियाओं के अलावे सभी दलों के स्थानीय नेता और कार्यकर्ता शामिल हुए और सुभाष सरदार को श्रद्धांजलि देने पहुंचे. विधायक तथा भाजपा नेताओं के द्वारा पार्टी का झंडा ओढ़ाकर इन्हें श्रद्धांजलि दी गई.

इसे भी पढ़ें : मैट्रिक पास छात्र के बनाये गये इलेक्ट्रिक साइकिल का राज्य सरकार करेगी ब्रांडिंग

इनके शव यात्रा को इनके आवास मुसाबनी बस स्टैंड से निकालकर मुसाबनी बाजार और नंबर दो, नंबर एक का भ्रमण कराकर मऊभंडार स्थित स्वर्णरेखा नदी तट ले जाया गया, जहां इनका अंतिम संस्कार किया गया.





WhatsApp chat Live Chat