BREAKING : चास में दिन-दहाड़े 27 लाख की डकैती, गार्ड व गृहस्वामी को बंधक बना तीन घंटे मचाया उत्पात

गृहस्वामीबोकारो : बोकारो में चोरों के आतंक के साथ-साथ अब डकैतों का आतंक परवान चढ़ चुका है. एक के बाद एक-एक कर सामने आ रही वारदातों के बावजूद पुलिस अपराधियों पर लगाम लगाने में विफल साबित हो रही है. इसी कड़ी में बुधवार को चास थाना क्षेत्र अंतर्गत यदुवंश नगर में आधा दर्जन की संख्या में आये हथियारबंद अपराधियों ने दिन-दहाड़े लगभग 27 लाख रुपये की डकैती को अंजाम देकर बता दिया कि उनमें पुलिस का खौफ अब तनिक भी नहीं रहा. घटना मेसर्स मिथिला चरण सिंह नामक एक प्रतिष्ठान के मालिक रामसेवक सिंह के घर अंजाम दिया गया. अपराधियों ने घर के नीचे ड्यूटी पर तैनात सुरक्षागार्ड को हथियार की नोंक पर अपने कब्जे में ले लिया. उसके हाथ बांध दिये. कुल छह की संख्या में आये अपराधियों में से एक नीचे ही रहा, जबकि शेष पांच गार्ड को अपने साथ लेकर ऊपरी तल्ले पर स्थित घर गया, जहां गार्ड की मदद से उनलोगों ने दरवाजा खुलवाया और भीतर पहुंचकर उत्पात शुरू कर दिया. सभी के पास पिस्टल व अन्य घातक हथियार थे.

पिस्टल के बट से वारकर घायल भी किया

घटना के संबंध में भुक्तभोगी गृहस्वामी रामसेवक सिंह (65) ने बताया कि वे दोपहर को नया मोड़ स्थित एक्सिस बैंक गये थे. इसी दरम्यान अपराधियों ने उनके घर में डाका डाला. गार्ड सुखदेव बाउरी को कब्जे में लेकर वे लोग ऊपरी तल्ले पर गये, जहां उनकी पत्नी उषा देवी (50) सो रही थी. गार्ड व पत्नी को अपराधियों ने काफी मारा-पीटा. पत्नी को रिवाल्वर के बट से मारकर बुरी तरह चोटिल कर दिया और आलमारी, लॉकर आदि की चाबी मांगने लगे. इसी बीच श्री सिंह घर लौटे. बैंक से लौटकर जब वह आये तो घर के दरबान को गायब तथा वहां एक अनजान शख्स को नीचे टहलता हुआ पाया. पूछने पर उसने खुद को दरबान का रिश्तेदार बताया. इतने में ही ऊपर से एक दूसरा अपराधी आया. उसने पूछने पर खुद को सीबीआई का आदमी बताया. जब तक रामसेवक कुछ सोचते उन दोनों ने मिलकर हथियार के बल पर उन्हें और उनके ड्राइवर सुनील कुमार सिंह को अपने कब्जे में ले लिया. फिर उन दोनों को ऊपर ले जाकर उनसे भी चाबी मांगी. चाबी नहीं मिलने की बात बताये जाने पर उनलोगों के साथ भी मारपीट की गयी. इस पर गृहस्वामी ने आलमारी तोड़ लेने को कहा.




हथियार के साथ तांडव मचाते रहे अपराधी

वे लोग हथियार के खौफ के आगे असहाय बने रहे लगभग तीन घंटे तक अपराधी वहां हथियार के साथ तांडव मचाते रहे. चार-पांच कमरों में बारी-बारी से जाकर सभी में रखी आलमारी, दीवान आदि को उन्होंने उधेड़ डाला. रामसेवक सिंह के अनुसार लुटेरे घर से लगभग 25 लाख रुपये मूल्य के गहने, तकरीबन सवा लाख रुपये नकद और हाथ-पैर में पहने गये जेवरात सहित लगभग 27 लाख रुपये मूल्य की संपत्ति लूट ले गये. उन्होंने बताया कि सभी अपराधियों की उम्र 30-35 वर्ष के आसपास थी. ड्राइवर सुनील के मुताबिक सभी अपराधियों के चेहरे खुले थे. एक के पास हेलमेट था. एक ने सादे रंग की टी-शर्ट व पैंट के साथ-साथ सादे रंग की ही चप्पल भी पहन रखी थी और उसके पांव में घाव भी था.

जाते-जाते बाथरूम में कर दिया बंद

अपराधियों ने रामसेवक सिंह के घर में डाका डालने के बाद जाते-जाते उनके साथ-साथ उनकी पत्नी उषा देवी, गार्ड सुखदेव बाउरी और ड्राइवर सुनील कुमार सिंह, सभी को घर के एक बाथरूम में बंद कर दिया. बाद में ड्राइवर सुनील पानी ने की पाइप के सहारे ऊपर चढकर वहां के वेंटीलेटर (रोशनदान) में लगी ईंट को हटाया और पड़ोस के लोगों को शोर कर डकैतों द्वारा बाहर से बंद कर देने की सूचना दी. पड़ोस की महिलाओं ने आकर घर व बाथरूम के दरवाजे खोल उन्हें मुक्त किया. घटना के बाद पुलिस हमेशा की तरह जांच में जुट गयी है, परंतु समाचार लिखे जाने तक कोई भी सुराग हाथ नहीं लग सका है.

गौरतलब है कि हाल ही में बोकारो के हरला थाना क्षेत्र अंतर्गत रामडीह मोड़ में सेवानिवृत्त इस्पातकर्मी तथा चंद्रपुरा में फुसरो नगर पर्षद की पूर्व महिला अध्यक्ष प्रत्याशी के घर डाके डाले थे, परंतु आज तक इन मामलों में भी पुलिस के हाथ खाली ही हैं. ऐसे में लचर हो चुकी विधि-व्यवस्था के कारण आमलोगों में जहां अपराध के कारण दहशत है, वहीं पुलिसिया निष्क्रियता को लेकर भारी आक्रोश भी.





WhatsApp chat Live Chat