BREAKING

कभी भी ध्वस्त हो सकता है एएनएम हॉस्टल का बिल्डिंग, जान जोखिम में डालकर रहने को विवश है नर्सिंग छात्राएं

जर्जर बिल्डिंग गिरिडीह : जहां एक ओर सरकार स्वास्थ्य सेवा के क्षेत्र में करोड़ों रुपए खर्च कर रही है. वहीं दूसरी ओर गिरिडीह सदर अस्पताल स्थित एएनएम हॉस्टल में रहने वाली नर्सिंग छात्राएं जान जोखिम में डालकर रहने को विवश है. वर्षों पुराने इस छात्रावास का बिल्डिंग पूरी तरह जर्जर हो चुका है. भवन में मोटी-मोटी दरारें पड़ चुकी है. वहीं छत का प्लास्टर आए दिन भरभराकर गिरता रहता है. बिल्डिंग में झाड़ियां उग आई है. इसके बावजूद नर्सिंग छात्राएं किसी तरह उस बिल्डिंग में रह रही हैं.

इसे भी पढ़ें :एमजीएम अस्‍पताल में मुर्दें को भी लगाया जाता है ऑक्‍सीजन, चढ़ाया जाता है स्‍लाइन (देखें वीडियो)

एएनएम हॉस्टल का नया बिल्डिंग वर्षों से बनकर है तैयार




शहर के चैताडीह में एएनएम हॉस्टल का नया बिल्डिंग वर्षों से बनकर यूं ही बेकार पड़ा हुआ है. इन छात्रों को जर्जर बिल्डिंग से हटाकर नए बिल्डिंग में शिफ्ट करने की दिशा में अब तक कोई ठोस पहल नहीं की गई है. इस बावत नर्सिंग हॉस्टल की प्राचार्या एलिशीबा नाग ने कहा कि जर्जर बिल्डिंग के बारे में कई बार सीएस व डीएस को लिखित सूचना दी गई है, इसके बावजूद कोई ठोस पहल नहीं की गई.

इधर सिविल सर्जन डॉ राम रेखा प्रसाद से इस मुद्दे पर बातचीत की गई तो उन्होंने कोई स्पष्ट जवाब ना देते हुए नई बिल्डिंग में पानी की किल्लत का हवाला दिया. कहा कि इस मामले में उपायुक्त से बात की जाएगी.

इसे भी पढ़ें :गिरिडीह : कलश यात्रा के साथ राधा कृष्ण मंदिर का प्राण प्रतिष्ठा समारोह शुरु

इसे भी पढ़ें :गिरिडीह: मोटापे का शिकार हुए कई पुलिसकर्मी, फिट रखने के लिए योग शिविर



WhatsApp chat Live Chat