गुप्‍त सूचना के आधार पर कार्रवाई, अवैध अल्‍ट्रासाउंड जांच घर सील, एक गिरफ्तार  

अवैध जांचघर से गिरफ्तार आरोपीचतरा : जिले के इटखोरी धनखेरी चौक पर साहू भवन के एक कमरे में अवैध रूप से संचालित अल्ट्रासाउंड मशीन को प्रखंड स्तरीय गठित प्रशासन की टीम ने सील कर दिया. टीम का नेतृत्व कर रहे इटखोरी अस्पताल के चिकित्सा पदाधिकारी डॉ डीएन ठाकुर ने बताया कि गुप्त सूचना के आधार पर धनखेरी चौक पर छापामारी अभियान चलाकर साहू भवन में संचालित अल्ट्रासाउंड मशीन को कमरा समेत सील कर दिया गया. उन्होंने बताया कि छापामारी के दौरान मौके पर मौजूद मशीन के ऑपरेटर छोटू कुमार नामक एक युवक को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. छोटू कुमार प्रतापपुर प्रखंड के जोरी गांव के सुरेंद्र प्रजापति का पुत्र बताया रहा है. छोटू ने पुलिस पूछताछ में बताया कि वह जांचघर का कर्मचारी है. जांच घर का मुख्य मालिक बिहार के शोभ बाराचट्टी का रवि कुमार प्रजापति है.

इसे भी पढ़ें :झाविमो ने रघुवर सरकार पर साधा निशाना, कहा- सही निर्णय नहीं लेने के कारण खूंटी का घाव बन गया नासूर

अवैध क्‍लीनिक एवं जांच घर को बंद कराने में प्रशासन का सहयोग करें आमजन : डॉ डीएन ठाकुर




फिलहाल पुलिस गिरफ्तार छोटू से इस मामले में गहन पूछताछ कर रही है. रवि प्रजापति पुलिस की गिरफ्त से बाहर है. इस संबंध में छापामारी अभियान का नेतृत्व कर रहे चिकित्सा पदाधिकारी डॉ डीएन ठाकुर ने कहा कि प्रखंड के विभिन्न चौक-चौराहों एवं गांव मुहल्लों में झोलाछाप डाक्टरों द्वारा चलाए जा रहे अवैध क्‍लीनिक एवं जांचघर को बंद करने में आमजनता प्रशासन का सहयोग करें. गर्भवती महिलाओं का अल्ट्रासाउंड मशीन के द्वारा जांच कर गर्व में लड़का है या लड़की बताकर झूठा रिपोर्ट देकर उनसे मुंह मांगी राशि ठगते हैं. उन्होंने आगे बताया कि इसमें संलिप्त आरोपियों के विरुद्ध पीसीपीएन डीटी एक्ट के तहत मामला दर्ज कर जेल भेजा जाएगा.

इसे भी पढ़ें :अलीमुद्दीन मर्डर केस : हाईकोर्ट ने दी आठ दोषियों को जमानत, बीफ तस्करी मामले में एक साल पहले हुई थी हत्या

रिपोर्ट को सही ठहराने के लिए ओम क्लीनिक ने एक बच्‍चे का काट दिया था लिंग

इससे पूर्व लिंग परीक्षण रिपोर्ट को सही ठहराने के लिए एक झोलाछाप डॉक्‍टर ने नवजात शिशु का लिंग काट दिया था. इस घटना को जयप्रकाश नगर मुहल्ला स्थित अवैध रूप से संचालित ओम क्लीनिक एवं चट्टी गांव में संचालित आस्था अल्ट्रासाउंड क्लीनिक के संचालक के द्वारा दिया गया था. जिस मामले के आरोपी डॉ अनुज कुमार एवं डॉ अरुण कुमार अभी भी पुलिस गिरफ्त से बाहर हैं. बावजूद इसके इटखोरी धनखेरी चौक पर खुलेआम चल रहा था लिंग परीक्षण क्‍लीनिक.

इसे भी पढ़ें :गरीबों में शिक्षा का अलख जगा रहे हैं सीओ साधुरण देवगम,  हर रविवार बच्‍चों में बांट रहे नि:शुल्‍क ज्ञान





WhatsApp chat Live Chat