बाल कैदी ने की आत्महत्या, रेप का था आरोपी, सुसाइड नोट पर लिखी ये बात

Child Prisoner committed suicide rape accused written Suicide noteजमशेदपुर: घाघीडीह स्थित बाल सुधार गृह में बलात्कार के आरोपी गौरव कुमार ने  फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है. इस बाल कैदी ने एक सुसाइड नोट भी लिखा है, जिसमें पुलिस को दोषी ठहराते हुए लिखा है कि पुलिस ने इसे जबरन बलात्कार के मामले में फंसा दिया है. साथ ही मम्मी-पापा और अपने दोस्तों से  माफी मांगते हुए अलविदा लिखा है. वहीं पुलिस भी सुसाइड नोट नहीं दिखा रही है.

बताया जाता है कि 6 महीने पहले मानगो गौड़ बस्ती के रहने वाले गौरव कुमार नामक एक युवक को एक लड़की के साथ सामूहिक दुष्कर्म के मामले में तत्कालीन उलीडीह थाना प्रभारी मुकेश कुमार द्वारा गिरफ्तार किया गया था. वैसे उस मामले में और युवकों की भी गिरफ्तारी हुई थी जिसे 2 महीने पहले साक्ष्य के अभाव में रिहा कर दिया गया था.  इधर  इस कैदी के परिजन लगातार न्याय की गुहार लगाते रहे, लेकिन आरोप लगाने वाले लड़की के परिजन का दिल नहीं पसीजा.




नतीजा आज इस बाल कैदी ने खुद को बेगुनाह साबित करने के लिए  आत्महत्या का रास्ता चुना और फांसी लगाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली. इधर बाल कैदी के आत्महत्या किए जाने की सूचना मिलते ही पूरा प्रशासनिक महकमा घाघीडीह बाल सुधार गृह  पहुंचा और मामले की जांच शुरू कर दी है. वहीं परिजनों ने पुलिस की कार्यशैली पर सवालिया निशान खड़ा किया है, और कहा है कि मेरे बेटे की मौत का जिम्मेदार सिर्फ और सिर्फ पुलिस है. साथी लड़की के पिता पर भी आरोप लगाते हुए कहा है कि लड़की का पिता एक लाख रूपए की मांग कर रहा था. जब पैसा नहीं दिया तो लड़की ने जबरन फंसा दिया.





WhatsApp chat Live Chat