1971 के युद्ध में पाकिस्तान को शिकस्त देने वाले ब्रिगेडियर कुलदीप को बच्चों ने दी श्रद्धांजलि

Children pay tribute to Brigadier Kuldeep Singhलोहरदगा: एमएलए महिला कॉलेज की छात्राओं ने ब्रिगेडियर कुलदीप सिंह चांदपुरी को श्रद्धांजलि अर्पित की. क्रांतिकारी स्वतंत्रता सेनानी बटुकेश्वर दत्त की जयंती पर उनको भी नमन किया. कुलदीप सिंह चांदपुरी ने 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध में लोंगेवाला पोस्ट पर दुश्मन को शिकस्त देने वाले 120 भारतीय जवानों का नेतृत्व किया था.

2000 पाकिस्तानी सैनिकों और उनकी पूरी टैंक यूनिट का बहादुरी के साथ सामना कर असाधारण विजय हासिल की थी. विगत दिन महावीर चक्र विजेता का देहांत हुआ है. छात्राओं ने कहा कि भारतीय सेना असाधारण पराक्रम और उच्च आदर्शों के लिए जानी जाती है.

दुश्मन की तादाद और आर्टिलरी अधिक होने के बावजूद जरा भी विचलित नहीं हो कर देश के गौरव और सुरक्षा के लिए मोर्चा लेने वाले कुलदीप सिंह चांदपुरी हमेशा देश के नौजवानों के लिए आदर्श बने रहेंगे. आने वाली पीढ़ियों के लिए यह यकीन करना मुश्किल हो जाएगा कि सिर्फ 120 जवानों ने 2000 दुश्मन और उसकी पूरी टैंक यूनिट के दांत खट्टे कर दिए थे.




बटुकेश्वर दत्त को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए छात्राओं ने कहा कि भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु के परम मित्र और क्रांतिकारी बटुकेश्वर देश प्रेम की मिसाल बने रहेंगे. संसद में जो बम भगत सिंह ने फेंका था उसे बटुकेश्वर दत्त ने ही वहां पहुंचाया था. भगत सिंह का रूस दौरा रद्द नहीं हुआ होता तो बम फेंकने की जिम्मेदारी बटुकेश्वर ही निभाते. काला पानी की सजा और देश की आजादी के लिए 15 साल जेल में बिताने वाले बटुकेश्वर दत्त को नई पीढ़ी को हरगिज नहीं भूलना चाहिए.

कार्यक्रम में मनोरमा कुमारी , पूजा यादव, अंकिता गोयल, चंदा साहू, उमा कुमारी, कमला केरकेट्टा, सरसीता उरांव, प्रियंका मिंज, प्रभा नाग, ईशा मित्तल,  ज्योति कुमारी, राजमंती कुमारी, लक्ष्मी कुमारी, सीमा कुमारी, साक्षी गोयल, पूजा कुमारी, विजेता कुमारी, संध्या कुमारी, स्नेहा कुमारी सहित काफी संख्या में छात्राएं मौजूद थीं.





Loading...
WhatsApp chat Live Chat