BREAKING

चिरूडीह गोलीकांड : हाईकोर्ट के आदेश पर कार्रवाई, इन अधिकारियों पर दर्ज हुई FIR

chirudih golikand fir badkagaonहजारीबाग : जिले का बड़कागांव एक बार फिर ख़बरों में छाया हुआ है. एक तरफ न्यायालय के ताजा फरमान से चिरूडीह गोली कांड के पीड़ितों को न्याय की उम्मीद जगी है. वहीं दूसरी ओर इस घटना ने कई अधिकारियों के होश उड़ा दिए हैं.  हाइकोर्ट के इस आदेश ने प्रशासनिक गलियारों में हलचल तेज कर दी है. दरसअल, झारखंड हाईकोर्ट के ताजा आदेश के अनुसार, चिरूडीह गोलीकांड में एनटीपीसी के जीएम, एएसपी, डीएसपी और सीओ सहित 25 लोगों के खिलाफ  हत्या का मामला दर्द किया जाएगा. इसे लेकर बड़कागांव थाने में हत्या की एफआईआर दर्ज की गई है. बता दें कि इस गोलीकांड में चार युवकों अभिषेक राय, महताब आलम, पवन साव और रंजन राम की मौत हो गई थी.

हजारीबाग: पिता बस स्टैंड पर अंडा बेच चलाते हैं परिवार, बेटा बना बैंक अधिकारी

 झारखंड हाई कोर्ट ने क्रिमिनल रिट की सुनवाई के दौरान ये आदेश दिया है. गोली कांड में अभिषेक की मौत हो गई थी और उनके पिता ने एसडीजेएम हजारीबाग कोर्ट में शिकायत दर्ज की थी. इस पर कोर्ट ने पुलिस को केस दर्ज कर सूचित करने को कहा था. लेकिन शिकायत की फाइल डेढ़ साल तक थाने में पड़ी रही और केस दर्ज नहीं हुआ. इसके बाद हाईकोर्ट में क्रिमिनल रिट दायर की गई. हाईकोर्ट ने इस पर संज्ञान लेते हुए सरकार से जवाब-तलब किया. इसके बाद पुलिस हरकत में आई और बड़कागांव थाने में कांड संख्या 106/18 के तहत धारा 302 व 32 के तहत एफआईआर दर्ज की गई.




बता दें कि यह विवाद 2016 में कफ़न सत्याग्रह के दौरान हुआ था. यहां विधायक निर्मला देवी के नेतृत्व में पुलिस अत्याचार के खिलाफ एसआईटी जांच, भूमि अधिग्रहण अधिनियम और वनाधिकार अधिनियम को लागू करने जैसी मांगों को लेकर आंदोलन चल रहा था. जिसके बाद पुलिस ने एक अक्टूबर 2016 को निर्मला देवी को हिरासत में ले लिया. लेकिन समर्थकों ने उन्हें छुड़ा लिया, जिसके बाद इस पर मामला भड़क गया और आंदोलन कर रहे लोगों में झड़प हो गई. पुलिस को मजबूरन फायरिंग करनी पड़ी. इस घटना में चार युवकों की मौत हो गई और आठ लोग घायल हो गए.

बंद का मिलाजुला असर, विभिन्न जिलों से 18973 बंद समर्थक गिरफ्तार

इन अधिकारीयों पर दर्ज है एफआईआर- एनटीपीसी के तत्कालीन जीएम टी गोपाल कृष्णा, एएसपी अभियान कुलदीप कुमार, डीएसपी प्रदीप पाल कच्छप, सीओ शैलेश कुमार, त्रिवेणी सैनिक माइनिंग कंपनी के निदेशक श्री निवासन, प्रबंधक बी प्रभाकरण,सुरक्षा प्रभारी व पूर्व डीएसपी एसडी सिंह उर्फ सत्येंद्र सिंह, निदेशक डीआरडीए एनबी प्रभाकर, इंस्पेक्टर अखिलेश सिंह, थाना प्रभारी अकील अहमद, एनटीपीसी के एजीएम एसके तिवारी, बी बी महापात्रा.



WhatsApp chat Live Chat