सीएम की अ‍ध्‍यक्षता में राज्य सजा पुनरीक्षण पर्षद की बैठक, वर्षों से सजा काट रहे 129 कैदी होंगे रिहा

raghubar dasराष्ट्रपिता महात्मा गांधी के आदर्शों के अनुरूप आचरण और शुचिता से नए भारत का निर्माण होगा : रघुवर दास

रांची : राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के आदर्शों के अनुरूप आचरण और शुचिता से नए भारत का निर्माण होगा. मुख्यमंत्री रघुवर दास ने झारखंड मंत्रालय में राज्य सजा पुनरीक्षण पर्षद की बैठक में आज यह बात कही. मुख्यमंत्री ने कहा कि मानवता के नाते जेलों में बंद वैसे कैदी जिनका आचरण अच्छा है या उम्र ज्यादा हो गयी है, उन्हें छोड़ा जाये.

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ज्यादा दिनों से जेल में शुचिता पूर्ण जीवन जी रहे कैदियों को छोड़ने का आह्वान किया है. उन्होंने कहा कि जिन कैदियों को छोड़ने पर फैसला हो गया है, उन्हें अच्छा और नया जीवन  शुरू करने के लिए प्रेरित करें, उन्हें सुधरने का एक मौका दें.

Read More : तीन पत्नियों के पति ने 14 वर्षीय नाबालिग को बनाया हवस का शिकार, मां और बहन को पीटा (देखें वीडियो)

Read More : धनबाद: झाड़ियों में बेहोश मिली युवती, बदन पर नहीं थे कपड़े (वीडियो)

महात्‍मा गांधी के 150वीं जयंती पर कैदियों को छोड़ा जायेगा

मुख्यमंत्री ने झारखंड मंत्रालय में राज्य सजा पुनरीक्षण पर्षद की बैठक में कहा कि कई बार आवेश में आकर कोई किसी घटना को अंजाम दे देता है. यदि जेल में सजा के दौरान उसे अपने अपराध का बोध है तथा उनका आचरण व्यवहार अच्छा हो गया है, तो सजा का मूल उद्देश्य भी पूरा हो जाता है. ऐसे आचरण वाले 14 साल से ज्यादा समय तक जेलों में बंद कैदियों को प्राथमिकता दें. महात्मा गांधी के 150वीं जयंती वर्ष पर ऐसे कैदियों को छोड़ने की जरूरत है. आज पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी की जंयती के दिन इसका फैसला किया गया है. पंडित दीनदयाल भी एकात्म मानववाद के समर्थक थे. उन्होंने अंत्योदय का मंत्र दिया.

Read More : सीएम का जनसंवाद कार्यक्रम, जर्जर भवनों को तोड़ने के दिए आदेश

Read More : गोड्डा: संदेहास्पद हाल में चालक की मौत, परिजनों ने पुलिसवालों पर लगाया इलजाम

छोटे जुर्म में वर्षों से जेल में बंद कैदियों की सूची बनाने का निर्देश




मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी जेलों में बंद ज्यादातर लोग गरीब व अशिक्षित हैं, जिन्हें बेल लेने या मुकदमा करने का पूरा ज्ञान नहीं है. झारखंड में आदिवासी, अनुसूचित जाति समाज के लोग अशिक्षा के कारण सजा पूरी होने के बाद भी जेलों में ही बंद हैं. कई तो ऐसे छोटे-छोटे जुर्म में बंद हैं, जिनकी सजा भी नहीं होती है. सजा होती भी है, तो उसकी कुल अवधि से ज्यादा समय से जेल में बंद हैं. वैसे कैदियों की एक सूची बनाकर एक माह में सौंपे. सरकार अपना वकील देकर उन्हें रिहा करायेगी.

Read More : रांची: खोले गये पहाड़ी मंदिर के 20 दानपत्र, सड़े मिले कई नोट

Read More : सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, आरोप तय होने के बाद भी दागी नेता लड़ सकेंगे चुनाव

129 कैदियों को रिहा करने का निर्देश

आज की बैठक में कुल 137 मामले आये. इसमें पांच को निरस्त व तीन को स्थगित रखा गया. 129 कैदियों जिसमें से 65 कैदी अनुसूचित जनजाति के, 13 कैदी 60 वर्ष से अधिक उम्र के और दो महिला कैदी को रिहा करने पर मंजूरी दी गई. इस वित्तीय वर्ष में यह राज्य सजा पुनरीक्षण पर्षद की दूसरी बैठक थी. अप्रैल में हुई पहली बैठक में 221 कैदियों को रिहा करने की मंजूरी दी गई थी.

Read More : दहेज़ की भेंट चढ़ी बेटी, प्रताड़न से तंग आकर मौत को गले लगाया

जेलों में नियमित रूप से छापेमारी करने का निर्देश

मुख्यमंत्री ने राज्य के जेलों में नियमित रूप से छापेमारी करने और वहां सूचना तंत्र मजबूत करने का निर्देश दिया. मुख्यमंत्री ने कहा कि संगठित अपराध और अपराधियों पर विशेष नजर रखें. किसी बड़ी वारदात की सबसे पहले सूचना जेल में बंद बड़े अपराधियों तक आती है. उनपर नजर रखने से मामलों के उद्भेदन में तेजी आयेगी.

बैठक में गृह विभाग के प्रधान सचिव एसकेजी रहाटे, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव डॉ सुनील कुमार वर्णवाल, डीजीपी डीके पांडेय, कारा महानिरीक्षक वीरेंद्र भूषण, सहायक कारा महानिरीक्षक दीपक कुमार विद्यार्थी समेत पर्षद के अन्य सदस्य उपस्थित थे.

Read More : पकड़ा गया सीपी सिंह के घर पर हमला करने वाला नक्सली, 2 लाख का था इनामी

Read More : आयुष्मान खुराना की बीवी को हुआ ब्रेस्ट कैंसर, निकलवाना पड़ा एक स्तन





Loading...
WhatsApp chat Live Chat