धनबाद: नेता-अफसर की शह पर कोयला तस्करी चरम पर, हिस्सा ले सब मग्न

coal smuggling on peak in dhanbad धनबाद: झारखण्ड का खनिज संपदा, खासकर कोयले के मामले में काफी धनी है. लेकिन इसी संपत्ति को लेकर यहां लूट मची हुई है. क्या नेता, क्या अफसर, सभी इस लूट में अपना हिस्सा लेकर मौन हैं. एक रिपोर्ट के मुताबिक़, इस जिले के अलग-अलग हिस्सों में हर दिन करीब 10 करोड़ रुपए के अवैध कोयले की तस्करी की जाती है.

 पहले अपराधियों ने ट्रक चालक को लूटा, फिर प्राइवेट पार्ट में गोली मार हुए फरार

इस लूट में नेता, उनके रिश्तेदार, अफसर तक शामिल हैं. सभी को इसकी जानकारी है. लेकिन अपना हिस्सा लेकर सभी मौन हैं. धनबाद के झरिया से लेकर बरवाअड्डा और निरसा जैसे क्षेत्रों में कोयला तस्कर एक्टिव हैं और बेख़ौफ़ कोयले का अवैध कारोबार कर रहे हैं.




75 के मौलवी ने 9 वर्षीय बच्ची से किया दुष्कर्म, दो बीवियों से हैं 14 बच्चे  

यहां एक ही नंबर के पेपर पर दो बार कोयले का उठाव होता है. पहले जो कोयला ढोया जाता है, वो अवैध कारोबार के लिए होता है. उसके बाद दुबारा जब ट्रक कोयला लोड करता है, तब रजिस्टर्ड एड्रेस पर कोयला पहुंचाता है.

दिल्ली हाईकोर्ट का फैसला- अब राष्ट्रपति-राज्यपाल की गाड़ियों पर भी लगेगा नंबर प्लेट

रात के अंधेरे में चलने वाले ट्रक अवैध कारोबार में लगे होते हैं. ऐसा नहीं है कि पुलिस को इसकी जानकारी नहीं है. लेकिन उन्हें उनका हिस्सा समय से पहुंचा दिया जाता है. इसके बाद उन्हें इस अवैध धंधे से कोई दिक्कत नहीं रहती. हां, साइकिल से कोयला ढोने वालों पर इन पुलिसकर्मियों की नजर जरुर रहती है.





WhatsApp chat Live Chat