करोड़ों की सड़क बनने के साथ ही टूटने लगी, ग्रामीणों में आक्रोश

सड़कचंदनकियारी (बोकारो) : सरकार करोड़ों रुपये खर्च कर जनता के सुख-सुविधा के लिए सड़क का निर्माण करती है. ताकि वे सुगम तरीके से आवागमन कर सके. परंतु विभाग में कमीशनखोरी के आगे सब पस्त है. कमीशन का भार इतना ज्यादा होता है कि पदाधिकारियों की नजर कार्य की गुणवत्ता तक उठती ही नहीं है. जिसका परिणाम है कि संवेदक प्राक्कलन को दरकिनार कर कार्य की लीपापोती कर पैसे की निकासी कर लेते हैं.

बात चंदनकियारी प्रखंड के भोजूडीह के REO रोड से रंगटांड तक ग्रामीण कार्य विभाग की ओर से लगभग एक करोड़ की लागत से निर्मित डेढ़ किलोमीटर पक्की सड़क की है. जिसका निर्माण कार्य पिछले साल 2018 में ही हुआ. परंतु निर्माण के साथ ही एक तरफ सड़क जगह-जगह टूटने लगी. तथा घटिया सीमेंट एवं पत्थर बालू के कारण पुलिया तक नाला में दरार पड़ने लगी है. जिसके कारण कभी भी बड़ी दुर्घटना हो सकती है. जिससे ग्रामीणों में रोष व्याप्त है.
ग्रामीणों का कहना है कि काफी घटिया काम किया जा रहा है. घटिया सीमेंट, बालू और पत्‍थर यूज किया जा रहा है. जिससे बनने के साथ ही सड़क उखरने लगी है. वहीं बस्‍ती के अंदर जो पीसीसी पथ का निर्माण किया गया है, उसमें केवल 3 इंच की ढलाई की गई है, जिससे 10 दिन के अंदर ही ढलाई उखरने लगी है.





लोगों का कहना है कि सड़क किनारे जो नाली का निर्माण किया जा रहा है, उसमें भी काफी घटिया किस्‍म के पत्‍थर का उपयोग किया जा रहा है, जिससे नाली में भी दरारें पड़ने लगी है. सड़क टूट-टूटकर मिट्टी मोरम पथ का रूप ले लिया है. कई जगह कच्ची सड़क की तरह पानी रुकने से बड़े-बड़े गड्ढे हो गये हैं.

लोगों का कहना है कि सड़क निर्माण के समय ही लोगों ने विरोध किया था, मगर उस वक्‍त विभाग के अधिकारियों ने गुणवत्‍तापूर्ण कार्य कराने का आश्‍वासन दिया था, मगर निर्माण में अनियमितता बरती गई. लोगों का कहना है कि अगर कार्य गुणवत्‍तापूर्ण होता तो ग्रामीणों को काफी फायदा होता. इस सड़क से लोग आराम से निकटतम चंदनकियारी बाज़ार, डिगवाडीह, भोजूडीह  रेल स्टेशन जा सकते थे, मगर घटिया निर्माण ने ग्रामीणों के चेहरे पर मायूसी ला दी.



Loading...
WhatsApp chat Live Chat