छठ में बहू को मायके जाने से रोका तो समधी-समधन से पोल से बांध कर सास पीटा (देखें वीडियो)

छठगोड्डा : सदर अस्पताल के महिला वार्ड के बिस्तर पर दर्द से कराहती एक महिला मुफ्फसिल थाना क्षेत्र की मोसमात कौशल्या है, जिसके शरीर पर अनगिनत चोट के निशान हैं. हकीकत में ये चोट उनके अपने रिश्तेदारों ने सिर्फ इसलिए दिया क्योंकि इसने अपनी बहु को मायके विदा करने से यह कहकर रोक दिया कि अभी घर में छठ का त्यौहार है. छठ के बाद भेज देंगे .

दरअसल, घटना विगत दो नवम्बर की है जब कौशल्या के समधी और समधन अपनी बेटी और पोते को लेने आये थे. कौशल्या का सिर्फ ये कहना था कि छठ के बाद विदा करेंगे. बस फिर क्या था सभी ने मिलकर कौशल्या और बेटे घनश्याम (अपने ही दामाद) की पिटाई कर दी और बेटी को जबरदस्ती अपने साथ लेते गए. इतने से भी उनका मन नहीं भरा तो दामाद पर महिला थाना में दहेज़ उत्पीडन का मामला भी दर्ज कर दिया. इस घटना के बाद छह नवम्बर को दोपहर के वक्त मोसमात कौशल्या गांव बंका मोड़ के डीलर दूकान से राशन लेने गयी थी, जहां कौशल्या के बेटे के मौसी सास और मौसा ससुर जो उसी गांव के निवासी हैं ने कौशल्या पर हमला कर दिया. उन्होंने कौशल्या को राशन दूकान से घसीटकर बिजली के खम्भे से उसी के साड़ी से बांध दिया और बेरहमी से सरेआम पीटा.




कौशल्या की पिटाई होती दोख किसा ने उसे बचाने की कोशिश तो नहीं की पर वीडियो जरूर बना लिया. अब वह वीडियो वायरल हो रहा है. लोगों की भीड़ वहां खड़ी तमाशा देखती रही, विडियो बनाती रही मगर किसी ने महिला को बचाने का प्रयास नहीं किया. कौशल्या के समधी और समधन यह कहकर उसकी पिटाई किये जा रहे थे कि जब तक यह डायन रहेगी उसकी बेटी चैन से नहीं रह सकेगी.





Loading...
WhatsApp chat Live Chat