सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद जमकर हुई आतिशबाजी, बढ़ा प्रदूषण

Delhi Fierce fireworks increased pollution despite Supreme Court order IQI firecrackers burstनई दिल्ली: दिल्ली की हवा की गुणवत्ता बुधवार की रात बेहद खराब श्रेणी की ओर बढ़ गयी. दिल्ली वालों ने दिवाली की रात सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की जमकर धज्जियां उड़ाई, जिससे दिल्ली एनसीआर में धुंध की मोटी चादर बिह्ह गई. वहीं दिल्ली के बाद देश के कई इलाकों में प्रदुषण का स्तर बढ़ गया. दिवाली के बाद दिल्ली का औसत एयर क्वालिटी इंडेक्स 374 तक पहुंच गया, जो कि बहुत ख़राब श्रेणी माना जाता है. कई जगहों में ये आंकड़ा 999 तक देखा गया. जो कि काफी खतरनाक है. अभी दिल्ली की हवा और भी ज्यादा जहरीली हो गई है.

कोर्ट ने दिवाली और अन्य त्योहारों के मौके पर रात आठ से 10 बज के बीच ही पटाखे फोड़ने की इजाजत दी थी. कोर्ट ने सिर्फ हरित पटाखों के निर्माण और बिक्री की अनुमति दी थी. ये पटाखे कम प्रकाश और ध्वनि निकलती है और इसमें कम हानिकारक रसायन होते हैं.




कोर्ट ने पुलिस से इस बात को सुनिश्चित करने को कहा था कि प्रतिबंधित पटाखों की बिक्री ना हो. अगर कोई उल्लंघन होता है तो उस स्थिति में संबंधित थाना के एसएचओ को व्यक्तिगत रूप से जिम्मेदार ठहराया जाएगा और यह अदालत की अवमानना होगी.

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद राष्ट्रीय राजधानी  दिल्ली के कई इलाकों से उल्लंघन की बात सामने आई है. आनंद विहार, आईटीओ और जहांगीरपुरी समेत कई इलाको में प्रदुषण का बेहद उच्च स्तर देखा गया. दिल्ली में बुधवार रात दस बजे वायु की गुणवत्ता सूचकांक 296 दर्ज किया गया. केंद्रीय प्रदुषण नियंत्रण बोर्ड के अनुसार शाम सात बजे एक्यूआई 281 था.

दिवाली के बाद मेट्रो सिटी का हाल- एयर क्वालिटी इंडेक्स

कोलकाता- 358(बेहद खराब)

दिल्ली- 325(बेहद खराब)

मुंबई- 232(ख़राब)

बेंगलुरु- 130(औसत)

चेन्नई- 104(औसत)





Loading...
WhatsApp chat Live Chat