धनबाद : मेयर ने सांसद के खिलाफ निकाली भड़ास, सांसद ने कहा- सबकुछ मीडिया का करा धरा

महापौर चंद्रशेखर अग्रवाल धनबाद : धनबाद बीजेपी के अंदरखाने सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है. सांसद द्वारा कथित रूप से बेवकूफ कहे जाने से नाराज मेयर ने आज जहां मीडिया के समक्ष जमकर अपने मन की भड़ास निकाली, वहीं इस मामले में सांसद ने मेयर को बेवकूफ कहे जाने से साफ इंकार करते हुए मीडिया पर सांसद-मेयर के बीच टकराव कराने का आरोप मढ़ दिया. मेयर व सांसद के बीच का यह तंज न सिर्फ धनबाद के विकास को प्रभावित कर रहा है, बल्कि पार्टी के कार्यकर्ताओं को भी संशय की स्थिति में पहुंचा दिया है.

इसे भी पढ़ें :हटिया पटना एक्सप्रेस ट्रेन में भीषण चोरी, सोये यात्रियों का सामान ले कर उतर गये चोर

सांसद ने व्‍यक्तिगत टिप्‍पणी करके आहत किया : मेयर

धनबाद नगर निगम के महापौर चंद्रशेखर अग्रवाल आज नगर निगम स्थित अपने कार्यालय में मीडिया से सीधे मुखातिब होते हुए सांसद के खिलाफ जमकर भड़ास निकाली. मेयर ने सांसद पर मंगलवार को हुई दिशा की बैठक में महापौर और नगर निगम को बेवकूफ कहने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि सांसद ने जब तक निगम के काम को लेकर टिप्पणी की तब तक उन्होंने उसे स्वीकारा और सुधार करने का प्रयास किया, लेकिन अब जबकि उन्हें व्यक्तिगत रूप से टारगेट किया गया, तब जाकर वह मीडिया में जाने को बाध्य हुए हैं. मेयर ने सांसद पर आरोप लगाते हुए कहा कि जिस जोड़ा फाटक से लेकर पूजा टॉकिज तक जिस फ्लाई ओवर के प्रपोजल को मेरे द्वारा रद्द करने की बात कही जा रही है, वह सरासर गलत है. डीआरएम ने बैठक के दौरान उस प्रस्ताव को एनओसी देने से मना कर दिया था.

इसे भी पढ़ें :अवैध शराब के खिलाफ पुलिस ने चलाया अभियान, भारी मात्रा में अवैध शराब की बोतलें और पाउच बरामद

विकास के मुद्दे पर सांसद ने कभी सीधी बात नहीं की

मेयर ने कहा कि विकास के मुद्दे पर सांसद ने कभी भी मुझसे सीधी बात नहीं की है. वह जब भी इस मामले में बात किये हैं तो मीडिया का ही सहारा लिया है, जबकि मैं बराबर उनसे मिलते रहता हूं, लेकिन कभी भी सांसद ने इसको लेकर चर्चा नहीं की. उन्होंने कहा कि जब मैं बेवकूफ की श्रेणी में हूं तो जब जब सांसद मीडिया में बोलेंगे मैं उनका जवाब जरूर दूंगा.




इसे भी पढ़ें :

सांसद ने मेयर के आरोपों से इनकार किया हैसांसद

वहीं इसका जवाब देते हुए सांसद पीएन सिंह ने मेयर को कभी भी बेवकूफ कहने की बात से इंकार करते हुए इसके लिये पूरी तरह से कुछ अखबारों को जिम्मेवार ठहराया। सांसद ने न्यूज 11 से बात करते हुए कहा कि जिस दिशा की बैठक में मेयर को बेवकूफ कहने की बात छापी गयी है, उसमें उन्होंने सिर्फ नगर निगम द्वारा केंद्र प्रायोजित विकास कार्यों की जानकारी मांगी थी, जिसे बैठक में उपस्थित निगम के पदाधिकारी उपलब्ध नहीं करा पाये थे. सांसद ने कहा कि धनबाद शहर न सांसद का है और न ही मेयर का, बल्कि सबका है. सबकी सहमति से विकास काम हो ऐसा मेरा मानना है. मेरा मानना है कि गया पुल का दोहरीकरण होना चाहिये, लेकिन रेलवे ने इसका अनापत्ति देने से इंकार कर दिया. इसके दोहरीकरण होने से शहर की समस्या समाप्त हो सकती है. लेकिन सरकार ने मटकुरिया से आरा मोड़ होते हुए बेकारबांध तक की सड़क के लिये मेयर द्वारा फ्लाई ओवर की अनुशंसा की है, जो वर्ल्‍ड बैंक से बनेगा, जिसमें काफी लंबा समय लग जायेगा.

इसे भी पढ़ें :गिरिडीह : एसडीएम ने छात्र-छात्राओं के साथ शिक्षकों की भी ली क्लास, कहा- डिग्रियों की होगी जांच

विवाद का कारण मीडिया : सांसद

सांसद ने कहा कि मेयर अपना नगर निगम इलाके में कुछ भी करेंगे, उससे किसी को कुछ भी लेना-देना नहीं, लेकिन मेयर के साथ एक बड़ी बात और भी है कि वह पूरे बोर्ड की जिम्मेवारी मेयर ले लेते हैं और यहीं गलतफहमी उत्पन्न हो जाती है. सांसद ने कहा कि इससे विकास बहुत अधिक प्रभावित नहीं हो रहा है, लेकिन सबके सहयोग से हो तो ज्यादा अच्छा रहेगा. मेयर द्वारा विकास के मुद्दे पर सीधी बात नहीं करने के आरोप का जवाब देते हुए सांसद ने कहा कि सबकुछ मीडिया का किया धरा हुआ है.

निगम अपनी कमाई से नहीं भारत सरकार के पैसे से विकास कार्य कर रहा

सांसद ने कहा कि नगर निगम अपनी कमाई से विकास नहीं कर रहा है, बल्कि भारत सरकार के पैसे से विकास का काम कर रहा है. निगम की इतनी कमाई भी नहीं कि वह अपने सफाईकर्मी को पैसे दे सके. इसलिए मोदी सरकार अलग हैं और निगम अलग है, हो ही नहीं सकता. निगम ने कभी भी मुझे विकास के कार्यों की जानकारी नहीं दिया है. वैसे इन दिनों मीडिया पता नहीं क्यों सांसद व मेयर के बीच खटास पैदा करना चाहती है. मैंने भी भी मेयर के खिलाफ व्यक्तिगत आरोप नहीं लगाये हैं.





WhatsApp chat Live Chat