BREAKING

धनबाद : पीएम आवास योजना में गड़बड़झाला, तिरपाल के नीचे रहने को लोग मजबूर

धनबाद : जिले में प्रधानमंत्री आवास योजना का बुरा हाल है. एक ओर वैसे लोग योजना का लाभ उठाने में कामयाब हो जा रहे हैं जिन्हें आवास बनाने के लिए सरकारी सहायता की आवश्यकता ही नहीं है. वहीं दूसरी ओर वैसे जरूरतमंद को पीएम आवास योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है, जिन्हें वास्तव में इसकी जरूरत है. जो अपने मेहनत की कमाई से अपने लिए कंक्रीट का आशियाना नहीं बना सकते.

ताजा मामला गोविन्दपुर प्रखंड के बिराजपुर पंचायत के बरवाडीह आदिवासी टोला गांव का है. लगभग 400 परिवार की आबादी वाले इस गांव में अधिकतम संख्या अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति समुदाय से आने वाले लोगों की है.

इसी गांव में हिरालाल किस्कू नाम का एक अत्यंत गरीब शख्स है. वह अपनी बीमार पत्नी और चार बच्चों के साथ मिट्टी के जर्जर झोपड़ी में रहने को मजबूर है. इसी गांव के कई सुविधा सम्पन्न लोगों को स्थानीय मुखिया की कृपा दृष्टि से पीएम आवास योजना का लाभ मिल गया. लेकिन इस व्यक्ति को अब तक ये भी नहीं पता कि इसका नाम सरकार के उस डाटा में है या नहीं, जिससे इसे पीएम आवास योजना का लाभ मिल सकेगा.

बरसात का आगमन हो चुका है. ऐसे में जब भी बारिश होती है तो पूरा परिवार एक प्लास्टिक (तिरपाल) के नीचे आकर किसी तरह एक कोने में छुपकर बारिश से बचने की कोशिश करता है. ऐसा नहीं है कि स्थानीय ग्रामीणों ने इनकी व्यथा नहीं देखी है. लेकिन कोई भी व्यक्ति इनकी मदद को आगे आने को तैयार नहीं होता. वहीं अनपढ़ और गरीब होने के कारण यह व्यक्ति सरकारी मुलाजिम के यहां जाकर गुहार भी नहीं लगा पा रहा.



सिर्फ 20 किलो चावल मिलता है प्रति महीना

6 सदस्य वाले इस परिवार को महज 20 किलो चावल महीने का प्राप्त होता है. पत्नी अज्ञात बीमारी से ग्रसित है. वह ठीक से अपना देखभाल भी नहीं कर सकती है. ऐसे में यह शख्स अगर 10 दिन काम करता है तो 10 दिन घर में रहकर बच्चों की परवरिश करने की कोशिश करता है. जरूरत है कि सरकार की ओर से इसकी पत्नी का भी इलाज किसी अच्छे अस्पताल में कराया जाए, ताकि इसकी बीमारी के कारण पता चल सके.

सांसद ने नहीं दिया जवाब

पूरे मामले पर जब स्थानीय मुखिया से बात की गई तो उन्होंने कहा कि बहुत जल्द वे इसकी मदद करेंगे. वहीं पंचायत सचिव से बात करने पर उन्होंने कहा कि वे पहले इस शख्स के यहां जा चुके हैं और इसे पीएम आवास योजना का लाभ हर हाल में वह दिलवाएंगे. जबकि स्थानीय गोविंदपुर प्रखंड के बीडीओ ने फोन पर कहा कि मामला बेहद संगीन है. अगर अब तक इस तरह के जरूरतमंद शख्स को इस योजना का लाभ नहीं मिला है तो वह उसकी सहायता जरूर करेंगे. वहीं स्थानीय सांसद पशुपतिनाथ सिंह से पूछा गया कि आखिर अब तक इस शख्स को पीएम आवास योजना का लाभ क्यों नहीं मिला. तो प्रधानमंत्री आवास योजना से कितने लोग लाभान्वित हुए महज इतना बताकर सांसद चलते बने.



WhatsApp chat Live Chat