टीम इंडिया को महेंद्र सिंह धोनी पूर्व कप्तान गांगुली का युवाओं पर भरोसा दिखाने के कारण मिला

Dhoni made two records, Sourav Gangulyस्पोर्ट्स डेस्क : ब्रिस्टल में टीम इंडिया और इंग्लैंड के बीच खेले गए निर्णायक टी-20 मैच में टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने दो वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाए. इस मैच में धोनी ने एक टी-20 इंटरनेशनल पारी में विकेट के पीछे 5 विकेट लेकर वर्ल्ड रिकॉर्ड बना दिया है. इससे पहले एक टी-20 मैच में कोई विकेट कीपर एक ही पारी में पांच कैच लेने का कारनामा नहीं कर पाया था.

धोनी ने बनाए दो रिकॉर्ड 

इस मैच में धोनी ने पांच विकेट लेने के साथ ही एक खिलाड़ी को रन आउट भी किया. इससे पहले वह दो बार चार-चार कैच ले चुके हैं. पहली बार उन्होंने साल 2010 में अफगानिस्तान के खिलाफ और दूसरी बार 2012 में कोलंबो में पाकिस्तान के खिलाफ चार कैच पकड़े थे. इसके साथ ही धोनी टी-20 इंटरनेशनल में 50 कैच लेने वाले दुनिया के पहले विकेट कीपर बन गए हैं. उन्होंने यह उपलब्धी अपने 93वें टी-20 मैच में हासिल की है.

धोनी के साथ बिज़नस करने का मौका, ऐसे कमा सकते हैं 2.50 लाख रूपए प्रति महिना

सौरव गांगुली के भरोसा दिखाने के कारण धोनी  को टीम इंडिया में मिली जगह




लेकिन क्या आपको मालूम है कि भारतीय टीम को सबसे महानतम खिलाड़ियों में से एक महेंद्र सिंह धोनी पूर्व कप्तान सौरव गांगुली का युवाओं पर भरोसा दिखाने के कारण ही मिले हैं. यह दावा एक किताब में किया गया है, जिसे लेखक अभिरूप भट्टाचार्य ने लिखा है. उनकी किताब ‘विनिंग लाइक सौरव, थिंक एंड सक्सिड लाइक गांगुली’ में भारतीय टीम के पूर्व कप्तान को दूरदृष्टि और सबसे तेज दिमाग वाला बताया गया है.

धोनी फैन्स के लिए नई खुशखबरी, पिक्चर अभी बाकि है…

गांगुली को युवराज सिंह, मोहम्मद कैफ, जाहिर खान, वीरेंद्र सहवाग, हरभजन सिंह जैसे खिलाड़ियों को बढ़ावा देने के साथ ही ‘टीम इंडिया’ और ‘मेन इन ब्लू’ की अवधारणा बनाने का श्रेय दिया जाता है. इस किताब मुताबिक गांगुली का मानना था कि प्रतिभाशाली युवाओं को खुद को साबित करने का पर्याप्त अवसर मिलना चाहिए. वह प्रयास करते थे कि ऐसे खिलाड़ी को शांत माहौल मिले और एक असफलता के बाद उसे बाहर न किया जाए. किताब के अनुसार धोनी इस नीति के सबसे बेहतर उदहारण हैं. जिन्हें पहली चार पारियों में असफल रहने के बाद  भी मौका दिया गया. जिसके बाद पांचवीं  पारी में उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ 148 रनों की पारी खेली और इसके बाद धोनी का करियर पूरी तरह बदल गया.





WhatsApp chat Live Chat