हजारीबाग रेंज के सारे एसपी को अलर्ट मोड पर रहने का डीआईजी कंबोज ने दिया आदेश

हजारीबाग : भूमि अधिग्रहण संशोधन विधेयक के विरोध में पांच जुलाई को विपक्ष के प्रस्तावित झारखंड बंद को लेकर पुलिस-प्रशासन ने भी विशेष तैयारियां कर ली है. निर्देश दिया गया है कि शांतिपूर्ण विरोध-प्रदर्शन करने वालों को प्रदर्शन करने देना है. लेकिन, बंद का समर्थन नहीं करने वालों को जो बंद समर्थक परेशान करेंगे उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई करना है.

हंगामें की खबर तुरंत कंट्रोल रूम को दें

हजारीबाग रेंज के डीआईजी पंकज कंबोज ने अपने रेंज के सारे एसपी को अलर्ट मोड में रहने का आदेश दिया है. साथ ही उन्होंने बताया कि जिले के सभी पुरिस अधीक्षकों को आदेश जारी कर कहा गया है कि वे सभी थाना प्रभारियों को गस्ती में रहने का निर्देश जारी करें. डीआईजी ने कहा कि किसी भी तरह के हंगामा की सूचना मिलती है तो तुरंत कंट्रोल रूम को जानकारी दें. वहीं, बंद के दौरान अमन-चैन बिगड़ने की स्थिति में कानूनी कार्रवाई करने की बात भी कही गयी है.




प्रॉपर्टी को नुसान पहुंचाने वालों से वसूली जाएगी रकम

डीआईजी कंबोज ने साफ कर दिया है बंद के दौरान अगर सरकारी तथा प्राइवेट प्रॉपर्टी को क्षति पहुंची तो बंद का आह्वान करने वालों को उस नुकसान की भरपाई करनी पड़ेगी. उन्होंने यह भी कहा कि झारखंड उच्च न्यायालय द्वारा दिये गये कई न्याय निर्देशों का सख्ती से अनुपालन किया जाएगा. बंद की हर संभव अधिक से अधिक वीडियोग्राफी करायी जाएगी. बंद के दौरान किसी भी प्रकार की क्षति चाहे वाहन, बैंक, एटीएम, सरकारी दफ्तर आदि हो या फिर वो पब्लिक प्रॉपर्टी हो, किसी भी नुकसान की पूरी भरपाई बंद का आह्वान करने वाले राजनीतिक दल से वसूली जायेगी.

बता दें कि विपक्ष का कहना है रघुवर सरकार द्वारा लाया गया भूमि अधिग्रहण बिल झारखंडियों के खिलाफ साजिश है. इसके माध्यम से सरकार प्रदेश के किसानों एवं मूलवासियों की जमीन छीनना चाहती है. यह बिल किसानों एवं मूलवासियों के हित में नहीं है.





WhatsApp chat Live Chat