डिजिटल लेनदेन में हर चार में से एक भारतीय हो रहा है धोखाधड़ी का शिकार

भारत डिजिटल इंडिया की तरफ तेजी से बढ़ रहा है. साथ ही भारतीयों का धोखाधड़ी का शिकार होने का मामला भी तेजी से बढ़ रहा है. वैश्विक वित्तीय सेवा कंपनी एक्सपीरियन की एक रिपोर्टनई दिल्ली : भारत डिजिटल इंडिया की तरफ तेजी से बढ़ रहा है. साथ ही भारतीयों का धोखाधड़ी का शिकार होने का मामला भी तेजी से बढ़ रहा है. वैश्विक वित्तीय सेवा कंपनी एक्सपीरियन की एक रिपोर्ट के अनुसार डिजिटल लेनदेन में हर चार भारतियों में से एक धोखाधड़ी का शिकार हो रहा है. इस रिपोर्ट के अनुसार भारतियों के ऑनलाइन अधिक सक्रीय होने के कारण धोखाधड़ी का शिकार होने के मामले भी 25 फीसदी बढ़ गए हैं.

 

वैश्विक वित्तीय सेवा कंपनी एक्सपीरियन की एक रिपोर्ट के मुताबिक़, 24 फीसदी भारतीय ऑनलाइन लेनदेन के दौरान सीधे तौर पर फर्जीवाड़े का शिकार हो रहे हैं. दूरसंचार(57 फीसदी), बैंक(54 फीसदी) तथा रिटेलर्स(46फीसदी) जैसे क्षेत्र इसके सबसे बड़े भुक्तभोगी हैं.

 

इसके अलावा इस रिपोर्ट में यह भी खुलासा हुआ है कि 50 फीसदी भारतीय बैंकों के साथ डाटा शेयर करने में कंफर्ट महसूस करते हैं, जबकि 30 फीसदी भारतीय ब्रांडेड रिटेलर्स के साथ. जो की सबसे कम है.




 

ऑनलाइन में अधिक एक्टिव यूजर्स में से औसतन 65 फीसदी लोगों ने मोबाइल पेमेंट को अपना लिया है. लोग इस फीचर को ज्यादा सुविधाजनक मानते हैं.

 

रिपोर्ट के अनुसार देश में मात्र छह फीसदी उपभोक्ता ही सेवा प्रदाताओं को दिए जाने वाली जानकारी पर सोच-समझकर निगाह रखते हैं. यह आंकड़ा जापान के लिए आठ फीसदी है. भारतीय विभिन्न सेवा पेशकशों का फायदा उठाने के लिए भी अपने निजी डाटा को बिना किसी झिझक के साझा करते हैं.

 

ये भी पढ़ें…

 

 





WhatsApp chat Live Chat