मेदनीनगर शहर के कई सड़कों पर गंदगी का अंबार, बारिश से शहरवासियों की बढ़ी परेशानी

medninagarपलामू : पलामू का मेदनीनगर में पहली बार इस साल नगर परिषद से नगर निगम के रूप में बना है. मोहल्ले की सरकार भी बनी है. मगर हालात में कोई सुधार नहीं आया. मानसून की पहली बारिश ने मेदिनीनगर नगर निगम की पोल खोल दी. शहर के कई चौक-चौराहों पर कचरा और गंदगी का अंबार लगा हुआ है. नालियां बजबजा रही है, इतना नहीं डाल्टेनगंज शहर थाना के ठीक सामने कचरा का अंबार लगा है, वहीं छौमुहान पर  खुद सफाई कर्मी कचरा डंप करते हुए दिखाई दे रहे हैं.

शहर के कई इलाकों की नालियां जाम है, इस बात से शहरवासियों में खासा नाराजगी है. उनका कहना है कि नगर निगम बनने से होमलोगों को काफी उम्मीदें थी, मगर बरसात से पहले नगर निगम के अध्यक्ष अरुणा शंकर ने कुछ भी नहीं किया. जबकि केन्द्र, राज्य व नगर निगम में भाजपा की सरकार है.

शहर के कई नालियां जाम

दरअसल जब मेदनीनगर नगर परिषद था तब 26 वार्ड हुआ करते थे. मगर इस साल नगर निगम बनने के बाद 35 वार्ड नगर निगम क्षेत्र में आते हैं. लगभग सभी वार्ड की हालात कुछ इसी तरह है. शहर का सदीक चौक, शाहित्य समाज चौक, घास पट्टी चौक समेत कई इलाकों में नालियां पूरी तरह से जाम हो गई है. बरसात शुरू होने से पहले नगर निगम ने सफाई के लिए कोई कदम नहीं उठाया. कारण यह है कि सफाई कर्मियों की भारी कमी है. वार्ड पार्षदों की मानें तो सफाई कर्मियों के लिए नगर निगम का दौड़ लगा रहे हैं मगर उन्हें उनके वार्ड में सफाई करने वाला सफाई कर्मी नहीं मिल रहा, जिसके कारण आज हालात नगर परिषद से नगर निगम बनने के बाद भी जस का तस है.




सफाई व्‍यवस्‍था में होगी सुधार : अजय साव

इधर मेदनीनगर नगर निगम के कार्यपालक पदाधिकारी अजय कुमार साव का कहना है कि नगर निगम बरसात को देखते हुए सभी वार्ड पार्षदों के साथ बैठक की है. योजना बन रही है, जल्द ही हालात में सुधार होगी. हालांकि वह यह भी मानते हैं कि सफाई कर्मियों की भारी कमी है.

कब होगी सफाई कर्मियों की नियुक्‍ती

सवाल यह है कि आखिर सफाई कर्मियों की नियुक्ती कौन करेगा. अगर नगर निगम करेगा तो बारिश से पहले क्यों नहीं हुई. इस बार फिर पूरी बरसात में मेदनीनगर नगर निगम क्षेत्र के लोगों को गंदगी और कचरा से दो-चार होना पड़ेगा.





WhatsApp chat Live Chat