अलकतरा घो‍टाला में ईडी की बड़ी कार्रवाई, सन्‍नी कंस्‍ट्रक्‍श्‍न कंपनी पर 60 लाख का चार्जशीट दायर

अलकतरा घो‍टालारांची : अलकतरा घो‍टाला मामले में ईडी ने बड़ी कार्रवाई की है. हजारीबाग के सन्‍नी कंस्‍ट्रक्‍शन कंपनी पर 60 लाख का चार्जशीट दायर किया है. कंपनी के मालिक हैं संजय रामपाल और पुरुषोत्‍तम लाल सरोज. कंपनी ने वर्ष 2005-06 में 60 लाख रुपये की अवैध निकासी कर ली थी. जिसको लेकर 16 सितंबर 2009 को सीबीआई ने कांड संख्या 12/2009 के तहत चार आरोपियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी. मामले में 20 दिसंबर 2016 को चार अभियुक्‍तों को तीन-तीन वर्ष की सजा सुनाई गई थी.

इसे भी पढ़ें : जिंदा है धनबाद-चंद्रपुरा रेल लाइन, डेंजर जोन को बाइपास कर रास्ता निकालने पर हो र‍हा मंथन

इसे भी पढ़ें : जब जाम हटाने सड़क पर उतरी लेडी सिंघम, तो मच गया हड़कंप (देखें वीडियो)

सन्‍नी कंस्‍ट्रक्‍शन ने 2005-06 में 60 लाख की अवैध निकासी की थी

हजारीबाग के जुहू से इटखोरी रोड निर्माण कार्य को लेकर वर्ष 2005-2006 में मेसर्स सन्नी कंस्ट्रक्शन एंड कंपनी द्वारा 43 चालान जमा किया था. जिसमें 219.26 मिट्रिक टन अलकतरा की खरीदारी की गई,  जिसकी कीमत 60 लाख रुपये थी,  उसकी अवैध निकासी कर ली गई थी. जांच के दौरान पता चला कि जमा किए गए 17 चालान फर्जी थे. मामले को लेकर 16 सितंबर 2009 को सीबीआई ने कांड संख्या 12/2009 के तहत उक्त चार आरोपियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी.




इसे भी पढ़ें : धनबाद: महिला के पेट से निकले 10 इंच के 300 जिंदा केंचुए, मुंह से भी निकले कीड़े

20 दिसंबर 2016 को चार अभियुक्तों को हुई थी 3-3 वर्ष की सजा

हजारीबाग से जुड़े 60 लाख रुपये के अलकतरा घोटाले में 20 दिसंबर 2016 को चार अभियुक्तों को सजा सुनाई गई थी. सीबीआई की विशेष न्यायाधीश कुमारी रंजना अस्थाना की अदालत ने अभियुक्त, पथ निर्माण विभाग हजारीबाग के तत्कालीन सहायक अभियंता सुधीर खलखो, तत्कालीन कनीय अभियंता श्याम सुंदर प्रसाद को तीन-तीन वर्ष की सजा सुनाई थी, साथ ही 55-55 हजार रुपये जुर्माना भी लगाया था. मामले में सन्नी कंस्ट्रक्शन के साझेदार संजय रामपाल व पुरुषोतम लाल सरोज को तीन-तीन वर्ष की सजा व 50-50 हजार रुपये जुर्माना लगाया था. बेल बांड भरकर सभी औपबंधिक जमानत पर बाहर आ गये थे.

 इसे भी पढ़ें : रजरप्पा कोल स्टॉक में लगी आग, धू-धूकर जल रहा कोयला, कंपनी को करोड़ों का नुकसान

इसे भी पढ़ें : जिन्‍हें स्‍थानांतरण और पोस्टिंग की नहीं है जानकारी, वैसे बच्‍चे शिक्षकों के स्‍थानांतरण का कर रहे विरोध





WhatsApp chat Live Chat