गरीबों में शिक्षा का अलख जगा रहे हैं सीओ साधुरण देवगम,  हर रविवार बच्‍चों में बांट रहे नि:शुल्‍क ज्ञान

कन्‍हैया हेम्‍ब्रम

सीओ साधुचरण देवगमघाटशिला : पूर्वी सिंहभूम जिले के मुसाबनी प्रखंड कार्यालय के सर्किल अधिकारी (सीओ) साधुचरण देवगम गरीब बच्‍चों में शिक्षा का अलख जगा रहे हैं. अपनी व्‍यस्‍त ड्यूटी शिड्यूल के बीच समय निकालकर गरीब बच्चों को निःशुल्क शिक्षा दे रहे हैं. वे हर रविवार को मुसाबनी के मेढिया पुस्तकालय भवन में बच्चों को पढ़ाते हैं. वे बच्‍चों को विषय याद रखने के कई टिप्‍स भी बताते हैं, जिससे बच्‍चों को पढ़ाई में सहयोग मिलता है. बता दें कि सीओ साधुचरण देवगम बच्चों को इतिहास पर कई टिप्स बताते हैं, जिससे उन्हें इतिहास को याद रखने में आसानी होती है.

इसे भी पढ़ें :रांची: गोमिया विधायक बबिता देवी का भतीजा लापता, जेवीएम श्यामली का है स्टूडेंट

ग्रामीणों के प्रयास को सीओ ने सराहा और सहारा दियासाधुचरण देवगम

मालूम हो कि ग्रामीणों ने अपने प्रयास से बच्चों को शिक्षा देने के लिए गांव के ही पुस्तकालय भवन में इसकी व्यवस्था की थी. जब मुसाबनी सीओ को इस बात की जानकारी मिली कि ग्रामीण अपने स्तर से शिक्षा का अलख जगा रहे हैं, तो उन्होंने भी ग्रामीणों के इस प्रयास को सराहा और सहयोग करने का मन बनाया. वे पिछले तीन महीने से अपने व्‍यस्‍त शिड्यूल के बीच समय निकालकर हर रविवार को बच्चों को पढ़ा रहे हैं. सीओ साधुचरण देवगम का कहना है कि उनके लिए भी यह एक आत्मिक संतुष्टि का विषय है, जिसमें वे हर रविवार को अवकाश पर रहने के कारण इस दिन का सकारात्मक उपयोग करते हैं.




इसे भी पढ़ें :गुमला: छेड़खानी पड़ी लड़के को महंगी, पिटाई के साथ मिली मां-बहन की गालियां

सीओ ने बताया कि वे बच्चों को चीजें याद करने का आसान तरीके बता रहे हैं. बच्चों को लर्निंग टूल बताया जा रहा है, ताकि वे आसानी से किसी भी विषय को समझकर उसे याद रख सकें. इतिहास में मुगल बादशाहों को याद रखना मुश्किल होता है, लेकिन इसमें भी कई टिप्स हैं, जिससे बच्चे आसानी से याद रख सकेंगे. इसके अलावा आजादी से लेकर अब तक जितने भी देश के प्रधानमंत्री बनें, उन सबके नाम याद रखने के टिप्स बताए जा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें :पवन सिंह के इस गाने ने मचाया धूम, 12 दिनों में मिला 1.26 करोड़ का व्यूज

सीओ से पढ़ना बच्‍चे मान रहे अपना सौभाग्‍य

सीओ से पढ़कर ये बच्‍चे काफी खुश हैं. बच्चों का कहना है कि सीओ साहब उन्हें पढ़ाते हैं, यह उनके लिए सौभाग्य की बात है. उनके पास इतने रुपए नहीं हैं कि वे किसी बड़े संस्थान में एडमिशन ले सकें. ऐसे में सीओ साहब के पढ़ाने से उन्हें काफी मदद मिल रही है. सीओ साहब हमें चीजों को याद रखने के आसान टिप्‍स बता रहे हैं, जो हमारे पढ़ाई में काफी सहयोगी साबित हो रहा है.





Loading...
WhatsApp chat Live Chat