छिनी गई एनोस एक्का की विधायकी, 43 महीने से जेल में हैं बंद

enos ekka vidhansabha membership cancelled रांची: झारखण्ड पार्टी के विधायक एनोस एक्का की विधायकी कल खत्म हो गई. विधासभा अध्यक्ष ने इसका फैसला लिया. उनकी सदस्यता तीन जुलाई से खत्म मानी जाएगी. ये वही तारिख है, जिस दिन उन्हें पारा शिक्षक की हत्या के मामले में दोषी करार दिया गया था.

इस विधासभा सत्र में विधायकी खोने वाले एनोस चौथे विधायक रहे. उनसे पहले कमल किशोर भगत, योगेन्द्र महतो और अमित कुमार की विधायकी अलग-अलग मामलों में छिनी गई.




एनोस एक्का पर पारा शिक्षक मनोज कुमार की हत्या का आरोप लगा था. इस मामले में एनोस पिछले 43 महीने से जेल में बंद हैं. इस मामले में तीन जुलाई को उन्हें आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है. उन्होंने जेल के अन्दर से ही चुनाव लड़ा था और जीते भी थे.

एक फोन कॉल के कारण इस मामले में एनोस फंस गये थे. इस फोन कॉल के जरिये उन्होंने उग्रवादी विक्रम से बात कर पारा शिक्षक की मौत की जिम्मेदारी लेने को कहा था. इसे ही कोर्ट में सबूत बनाकर दिखाया गया था.





WhatsApp chat Live Chat