डेढ़ साल बाद भी आंजन धाम के पहाड़ों पर बन रही सड़क अधूरी, श्रद्धालुओं को हो रही परेशानी

hanuman-jiगुमला : झारखंड के गुमला जिले में पर्यटन को बढ़ावा देने के सरकार के दावों की हकीकत से आज हम आपको रूबरू कराने जा रहे हैं। दरअसल, पिछले दो सालों से गुमला जिले में स्थित राम भक्त हनुमान जन्म स्थली आंजन धाम के पहाड़ों पर बन रहे सड़क का कार्य अब तक अधूरा है। सड़क पूरी तरह से नहीं बनने की वजह से श्रद्धालुओं को मंदिर आने-जाने में काफी परेशानि‍यों का सामना करना पड़ रहा है।

पर्यटन स्‍थल है आंजन धाम

आंजन धाम गुमला जिला मुख्यालय से तकरीबन अठारह किलोमीटर और गुमला-लोहरदगा मुख्य मार्ग के टोटो से लगभग 9 किलोमीटर दूर स्थित है। यहां माता अंजनी का गुफा है जो राम भक्त हनुमान की जन्म स्थली है। क्षेत्र में प्राचीन मंदिर होने की वजह से राज्य सरकार ने इसे पर्यटन स्थल घोषित कर दिया है। मंदिर तक लोग आसानी से पहुंच सकें, इसके लिए सड़क निर्माण कार्य भी शुरू कराया, पर वह अधर में ही लटक गया।

रिम्स ने उठाया कड़ा कदम, हड़ताल में शामिल 35 नर्सें हटाई गईं

अल्‍टीमा कंपनी को मिला है जिम्‍मा

9.35 किलोमीटर लंबी सड़क के निर्माण के लिए 19 करोड़ 44 लाख रुपए आवंटित किये गये। अल्टीमा इंफ्रास्ट्रक्चर प्राइवेट लिमिटेड नामक कंपनी को सड़क निर्माण का कार्य सौंपा गया और सड़क निर्माण कार्य पूरा करने के लिए मार्च 2017 तक समय सीमा दिया गया। निर्धारित अवधी बीते हुए डेढ़ साल हो गये पर सड़क निर्माण अब तक पूरा नहीं हुआ।

स्‍मार्ट मीटर खरीद में घोटाले की बू, यूपी-बिहार से 261 रुपए महंगे दर में होगी खरीदारी

वन विभाग ने रोका सड़क निमार्ण कार्य

स्थानीय लोगों का कहना है कि सरकार के ढुलमुल रवैये के कारण इस सड़क का निर्माण कार्य लगभग दो किलोमीटर तक पूरा नहीं हो सका। अर्धनिर्मित दो किलोमीटर सड़क पहाड़ पर है और वह वन विभाग के क्षेत्र में आता है। वन विभाग के अधिकारियों ने आपत्ति दर्ज कराते हुए सड़क के निर्माण कार्य रोक दिया। जिस वजह से पिछले डेढ़ सालों से पहाड़ पर काम नहीं हुआ। मामले को ले कर सरकार थोड़ी सी  भी गम्भीर रहती तो अब तक सड़क का कार्य पूरा हो गया होता। साथ ही यहां आने-जाने वाले श्रद्धालुओं को कठिनाई नहीं होती।

बाइक की डिक्‍की तोड़कर उच्‍चकों ने 2.88 लाख रुपये उड़ाये, जांच में जुटी पुलिस  




श्रद्धालुओं को हो रही परेशानी

पहाड़ पर सड़क नहीं होने की वजह से हनुमान जी के दर्शन करने आने वाले श्रद्धालुओं को ऑटो चालक पहाड़ के नीचे ही उतार देते हैं। इसके बाद श्रद्धालुओं को पत्थर के नुकीले रास्तों पर चलकर पहाड़ चढ़ना पड़ता है। आपको यह बता दें कि ये नुकीले पत्थर यहां पहले से नहीं थे। इसे सड़क बनाने के लिए संवेदक ने बिछवाया था, पर अब इसका खामियाजा श्रद्धालुओं को भुगतना पड़ रहा है। निवर्तमान मुख्य  सचिव राजबाला वर्मा पिछले वर्ष दशहरा में अपने परिवार के साथ यहां दर्शन करने के लिए आईं थीं। उस समय उन्होंने कहा था कि सरकार पर्यटन स्थलों के विकास लिए गम्भीर है। इस सड़क निर्माण में जो भी विभागीय  अवरुद्ध है उसे जल्द दूर कर लिया जाएगा। मगर उनके आश्वासन के बाद भी अब तक सड़क का कार्य पूरा नहीं हो सका।

खूंटी गैंगरेप मामला : एक पादरी समेत 8 लोग हिरासत में, पादरी पर मामले को दबाने का आरोप

रास्‍ता बहुत ही खराब है : ऑटो चालक

जब हमने ऑटो चालक से पूछा कि श्रद्धालुओं को बीच रास्ते में क्यूं उतार दिया जाता है, तो उसने बताया कि ऊपर पहाड़ पर ऑटो नहीं चढ़ सकता है। रास्ता काफ़ी ख़राब होने की वजह से दुर्घटना की आशंका बनी रहती है। इसी कारण हम सभी श्रद्धालुओं को ऑटो से  यहीं पर उतार देते हैं।

कभी भी जलकर खाक हो सकता है रांची रेलवे स्टेशन का इलाका, लोग कर रहे खतरनाक काम

वन ‍विभाग के कारण कार्य रूका हुआ है : कार्यपालक अभियंता

सड़क निर्माण कार्य विभाग आरसीडी के कार्यपालक अभियंता बिनोद कच्छप का कहना है कि वन विभाग के कारण पिछले साल से कार्य रूका हुआ है। वन विभाग ने पहाड़ के रास्ते को अपना क्षेत्र बता कर काम करने नहीं दे रहा है। उनका कहना है कि अगर वन विभाग अनापत्ति प्रमाण पत्र दे दे, तो एक महीने में रूका हुआ काम पूरा कर लिया जाएगा।

वन विभाग के क्षेत्र में आता है इलाका : अधिकारी

वहीं इस संबंध में वन विभाग के अधिकारी ने कहा कि जिस पहाड़ में काम रोका गया है, वह वन विभाग के क्षेत्र में आता है। अगर हमारे वरीय अधिकारियों से अनापत्ति प्रमाण पत्र मिल जाता है तो फिर सड़क का काम करने दिया जाएगा।

दो विभाग के पचड़े में फंसा सड़क निर्माण कार्य

बहरहाल इस पूरे प्रकरण में सूबे की सरकार के विकास के दावों की पोल खोलती है कि कैसे दो विभाग के पचड़े में आकर आम जनता को परेशानी उठानी पड़ रही है। अगर सरकार विकास को लेकर इतनी ही सजग होती तो पर्यटन स्थल के इस मामले को अब तक निपटारा करा चुकी होती।





WhatsApp chat Live Chat