BREAKING

लैंप्स पैक्स की व्यवस्था से सरकार नाराज, राइस मिल किसानों से सीधे खरीदेंगे धान

– राइस मिल किसानों से सीधे खरीदेंगे धान

– बिचौलिया तंत्र, से छुटकारे का इंतजाम

– लैंप्स पैक्स की व्यवस्था से सरकार नाराज

Food Supply Department Lamps Pacsरांची : झारखंड सरकार धान क्रय केंद्रों की मनमानी से परेशान होकर धान खरीद की जिम्मेदारी अब राइस मिलों को सौंपने पर विचार कर रही है. केंद्र सरकार ने समर्थन मूल्य में इजाफा किया है इसका लाभ किसानों तक पहुंचे इसके लिए यह बदलाव जरूरी है.

झारखंड सरकार केंद्र सरकार द्वारा 12 फसलों के समर्थन मूल्य में इजाफे का लाभ किसानों तक सीधे पहुंचाने के लिए प्रतिबद्ध है. पिछली बार धान क्रय के खराब रिकॉर्ड और शिकायतों के मद्देनजर खाद्य आपूर्ति विभाग एक नए प्रस्ताव पर विचार कर रहा है. मंत्री सरयू राय के मुताबिक सरकार राज्य के राइस मिलों को धान क्रय और किसानों को भुगतान की जिम्मेदारी देने पर विचार कर रही है.




पिछली बार विभाग ने 577 क्रय केंद्र खोलें जहां 4 लाख मैट्रिक टन लक्ष्य के विरुद्ध सिर्फ दो लाख तेरह हजार मेट्रिक टन धान की खरीद की. उस पर भी सरकार को कई शिकायतें मिली.

मंत्री सरयू राय ने झारखंड के कई धान क्रय केंद्रों का दौरा किया. सबसे ज्यादा शिकायतें संथाल से मिली वहां लैंप पैक्स खुद ही किसानों को बिचौलियों के पास धान बेचने के लिए उत्साहित करते थे. राइस मिल एसोसिएशन सरकार के इस फैसले का स्वागत करता है और धान क्रय के लिए बेहद उत्साहित है.

हालांकि झारखंड में 80 के आसपास राइस मिले हैं, जिनमें अकेले रांची में 25 राइस मिले हैं, आधी राइस मिलें किसी न किसी अनियमितता की शिकायत को लेकर बंद हैं. सरकार उन बंद राइस मिलों को खुलवाने के लिए भी कोशिश करेगी. अगर पारदर्शी व्यवस्था नहीं हुई तो कम से कम झारखंड में केंद्र सरकार द्वारा बनाए गए समर्थन मूल्य का लाभ किसानों तक हरगिज़ नहीं पहुंच पाएगा.



WhatsApp chat Live Chat