फ्यूज बल्ब हैं बाबूलाल, भाजपा करेगी मानहानि का दावा : दीनदयाल वर्णवाल

bjp__bokaroबोकारो : जेवीएम के केंद्रीय अध्यक्ष एवं राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी अब पूरी तरह से एक फ्यूज बल्ब की तरह हो चुके हैं. जिसे जितना भी करंट दिया जाए, वह कभी जलने वाला नहीं है. उन्होंने हताशा में आकर भाजपा पर मनगढ़ंत और निराधार आरोप लगाया है. फर्जी चिट्ठी के सहारे राज्यपाल को बरगलाया गया. भाजपा इस मामले में जल्द ही उन पर मानहानि का मुकदमा दायर करेगी. उक्त बातें भाजपा के झारखंड प्रदेश प्रवक्ता दीनदयाल वर्णवाल ने कही.

फर्जी आरोप लगाना बाबूलाल को शोभा नहीं देता

शनिवार को बोकारो परिसदन में पत्रकारों से बातचीत करते हुए दीनदयाल ने कहा कि बाबूलाल को जनता ने अब पूरी तरह से नकार दिया है. उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया है. एक पूर्व मुख्यमंत्री को इस तरह का फर्जी आरोप लगाना शोभा नहीं देता. वह या तो अब इस आरोप को साबित करें या माफी मांगे. भाजपा मानहानि का दावा करेगी और जरूरत पड़ने पर उन्हें कटघरे में भी खड़ा करेगी. जब मामला न्यायालय में चल रहा है और अब फैसला आने की घड़ी नजदीक आ चुकी है तो ऐसे आरोप लगाने का मतलब एक ही है कि वह पूरी तरह से घबरा गए हैं. उन्हें बस पैसा ही पैसा दिखता है.




भाजपा राज्यहित और राष्ट्रहित को लेकर काम करती है

यह एक प्रकार से न्यायालय का भी अपमान है. सच्चाई तो यह है कि बाबूलाल खुद अपने कुनबे को संभाल पाने में पूरी तरह से नाकाम हैं. यह उनकी विफलता ही है और यही कारण है कि सबसे ज्यादा टूट झाविमो से ही होती रही है. जब किसी पार्टी का प्रमुख अपने विधायकों को रखने में सक्षम न हो, वहां संविधान अथवा पार्टी सिद्धांत से ऊपर एक ही व्यक्ति का राज चले तो वह कुनबा टूटेगा ही और ऐसा ही झाविमो के साथ हुआ. किसी भी तरह की खरीद-फरोख्त नहीं की गयी. भाजपा राज्यहित और राष्ट्रहित को लेकर काम करती है. इस विचारधारा को जो भी स्वीकार करेगा, उसका भाजपा स्वागत करेगी. झाविमो के छह विधायकों का भाजपा में आना कोई राजनीतिक छलावा नहीं था, बल्कि राज्यहित में उठाया गया कदम था.

भूमि सुधार अधिनियम को किया गया है सरलीकरण

भूमि सुधार अधिनियम के बारे में चर्चा करते हुए प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि वस्तुतः यह सुधार नहीं, उक्त अधिनियम का सरलीकरण है. विपक्ष के नेता हेमंत सोरेन संविधान को मानने के बजाय उसे फाड़ने की बात करते हैं. यह सरासर गलत है. वर्णवाल ने पांच जुलाई को आहूत महागठबंधन दलों के झारखंड बंद को पूरी तरह से असफल बताते हुए कहा कि महागठबंधन के कुल 32 दलों में से मात्र 12000 कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी ही बंद की असफलता दर्शाती है. सच्चाई तो यह है कि वे लोग विधानसभा से भाग जाते हैं. वहां अपनी बात नहीं रख पाते और सड़क पर आकर ड्रामा करते हैं. यह बंदी पूरी तरह से एक नौटंकी थी और कुछ नहीं.

इसके पूर्व प्रदेश प्रवक्ता के बोकारो आगमन पर सर्किट हाउस में बोकारो जिला भाजपा के अध्यक्ष जगरनाथ राम, जिला भारतीय जनता युवा मोर्चा के अध्यक्ष मयंक सिंह तथा महासचिव कुंजबिहारी पाठक ने पुष्प गुच्छ भेंटकर उनका भव्य स्वागत किया. बोकारो के बाद वर्णवाल धनबाद के लिए रवाना हो गए.





Loading...
WhatsApp chat Live Chat