गिरिडीह : बिनोद बिहारी महतो की 95वीं जयंती मनी, उनके अधूरे सपने को पूरा करने का लिया संकल्‍प

बिनोद बिहारी महतो डुमरी (गिरिडीह) : झारखंड के जनक कहे जाने वाले बिनोद बिहारी महतो की 95वीं जयंती के अवसर पर डुमरी के चिरैयामोड़ स्थित उनकी प्रतिमा पर आजसू कार्यकर्ताओं ने माल्यार्पण किया. इस दौरान लोगों ने उनके मार्ग पर चलने का संकल्प लिया. साथ ही उनके अधूरे सपनों को पूरा करने का भी प्रण लिया है. वहीं कार्यक्रम में लोगों ने जमकर नारेबाजी भी की.

Read More : गिरिडीह : दुर्गा पूजा समिति के अध्यक्ष राजेश राय व सचिव बने दिनेश वर्मा

Read More : Update : भारत-पाक मुकाबला शुरू, पाकिस्‍तान का पहला विकेट गिरा

बिनोद बाबू के बलिदान का फल है अलग झारखंड राज्‍य : प्रमुख

इस दौरान डुमरी प्रमुख यशोदा देवी ने कहा कि आज हमें यह जो अलग झारखंड मिला है, इसकी मांग बिनोद बाबू ने किया था और आज उनके बलिदान का फल है कि हमें बिहार से अलग कर झारखंड राज्य की सौगात मिली है. हालांकि अलग झारखंड का जो सपना देख कर बिनोद बाबू ने जो लड़ाई छेडी थी, वह आज भी पूरा नहीं हो सका है और उनके सपनों को हम झारखंडवासियों को मिलकर पूरा करना है.

Read More :  धनबाद : पति-पत्नी की नोकझोंक के बाद से पति लापता, लड़की के घर वालों पर शक




Read More :  गिरिडीह शहर में चला सघन वाहन चेकिंग अभियान

अबतक के सभी आदिवासी मुख्‍यमंत्रियों ने आदिवासियों को छलने का काम किया

प्रमुख ने कहा कि आज अलग झारखंड मिलने के बाद भी झारखंड में आदिवासियों की दशा नहीं बदली है और अबतक जितने भी आदिवासी मुख्यमंत्री झारखंड में बने हैं. सबों ने आदिवासियों को छलने का काम किया और और सिर्फ आदिवासियों के नाम पर अपनी जेब भरने का काम किया. जिसका एक उदाहरण झारखंड के निर्दलीय मुख्यमंत्री बने मधु कोड़ा हैं. इसके अलावे अन्य आदिवासी बने मुख्यमंत्री भी शामिल हैं.

Read More :  गिरिडीह : छात्रा के साथ दुष्कर्म का प्रयास, मामला दर्ज, पढ़ाई के साथ करती है काम

Read More :  आयुष्‍मान भारत के साथ-साथ झारखंड को दो मेडिकल कॉलेजों की मिली सौगात

कार्यक्रम में ये लोग मुख्‍य रूप से मौजूद रहे

इस दौरान माल्यार्पण करने वालों में आजसू प्रखंड अध्यक्ष काशी महतो सहित छक्कन महतो, पप्पू कुमार, सतीश महतो, शंभू महतो, चुरामण महतो, सुरेश कुमार, मिथलेश कुमार, चंद्रदेव प्रसाद, दयानंद प्रसाद, पिंटू कुमार, दुलारचंद महतो, सूरज कुमार सहित बड़ी संख्या में आजसू कार्यकर्ता मौजूद थे.

Read More :  क्विन ऑफ़ झारखंड के बाद अब झरिया की प्रीति पहुंची मिस इंडिया के ग्रांड फिनाले





WhatsApp chat Live Chat