गोड्डा : सदर अस्‍पताल में करोड़ों की लागत से बना आईसीयू बेकार, धूल फांक रही मशीनें

गोड्डा : सरकार एक ओर आमलोगों की सुविधा के लिए नई-नई योजनाएं ला रही है. योजनाओं पर सरकार करोड़ों रुपये खर्च कर रही है. मगर अधिकारियों की अनदेखी के कारण कई योजनाएं धूल फांकने को विवश है. उसी का एक जिता-जागता उदाहरण गोड्डा के सदर अस्‍पताल में शिशु के लिए आईसीयू वार्ड बना है. जो करोड़ों की लागत से बनकर तैयार है, मगर डॉक्‍टरों के अभाव में चालू नहीं हो पा रहा है.

गौरतलब है कि गोड्डा जिला मुख्यालय स्थित गोड्डा सदर अस्पताल में गरीबों व असहायों के बच्‍चों के इलाज के लिए सरकार ने करोड़ों रुपये खर्च कर आईसीयू वार्ड का निर्माण करा कर सारे उपकरण भी लगवाये और उसका उद्घाटन भी करवाया. मगर डॉक्‍टरों के अभाव में आजतक आईसीयू की शुरुआत नहीं हो सकी. मरीज इलाज के लिए राज्‍य के दूसरे जिले या निजी अस्‍पताल में जाने को मजबूर हैं.




इसे भी पढ़ें : बोकारो : घरेलू कलह की वजह से वृद्ध ने की आत्महत्या, ग्रामीणों के हंगामे के बाद बहू गिरफ्तार

चिकित्‍सकों के अभाव में अबत‍क नहीं शुरू हुआ शिशुओं के लिए बना आईसीयू वार्ड

प्रसूता वार्ड के स्‍थान पर आईसीयू वार्ड का निर्माण कराया. सरकार ने करोड़ों रुपये खर्च कर वार्ड को सुविधायुक्‍त भी बना दिया, मगर चिकित्‍सकों के अभाव में आज तक आईसीयू वार्ड का शुभारंभ नहीं किया गया. आईसीयू वार्ड के सारे उपकरण धूल फांकने रहे हैं.

आईसीयू चालू कराने के मामले में सिविल सर्जन का कहना है कि जिले में पहले से ही चिकित्‍सकों की कमी है. आईसीयू वार्ड की शुरुआत कराने के लिए शिशु रोग विशेषज्ञ डॉक्‍टरों की पोस्टिंग भी नहीं हुई है. इस हालत में आईसीयू का संचालन संभव नहीं है.

इसे भी पढ़ें : बीजीएच से भर्ती शुल्‍क व कैशलेस व्‍यवस्‍था हटाने की मांग,  झाविमो ने किया प्रदर्शन  





WhatsApp chat Live Chat