हजारीबाग: लचर विद्युत व्यवस्था से व्यवसायी वर्ग परेशान, कंपनियों पर लग सकता है ताला

Hazaribagh business class disturbed leaky power system lock-may take-place companiesहजारीबाग: बिजली की आंख मिचौली से हजारीबाग की जनता ही नहीं व्यवसायिक वर्ग भी परेशान है. बिजली की समस्या के कारण हजारीबाग की 40 कंपनियों पर ताला लटकने का संकट मंडरा रहा है. हजारीबाग में विगत 2 महीने से बिजली की स्थिति बद से बदतर हो गयी है. दिन भर में बिजली महज कुछ घंटे ही रह रही है. वहीं लोड-सेडिंग के नाम पर डीवीसी हर दिन 9 घंटे बिजली काट रही है. वहीं 5 से 7 घंटे बिजली विभाग अन्य कारणों से बिजली काट रही है. जिससे आम लोगों का जीना दूभर हो गया है.

रात रात भर बिजली गायब रहती है. अब बिजली विभाग के इस रवैया से व्यवसायिक वर्ग भी परेशान है. व्यवसायिक वर्गों ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपनी परेशानी बताई. उनका कहना है कि जिस तरह से बिजली कट रही है. हर 1 घंटे पर बिजली ट्रिप हो रही है, इसलिए व्यवसाय करना मुश्किल हो रहा है. यहां तक कि कारखानों में उत्पादन पर भी असर पड़ रहा है. बिजली ट्रिप होने से जनरेटर का सहारा लेना पड़ रहा है. जिससे उत्पादन की कीमतों पर भी असर पड़ रहा है.




बंद हो जाएंगे 40 कारखाने

उनका कहना है कि हजारीबाग और उसके आसपास क्षेत्रों में 40 कारखाने हैं. जो समय पर बिजली बिल का भुगतान भी करते हैं. यही नहीं 3 महीनों का गारंटी मनी भी जमा रहता है. विभाग बिजली की फिक्स रेट लेती है. लेकिन बिजली उन्हें नहीं मिल पाता है. जिससे परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. उत्पादन ठप होने के कारण बैंक ऋण भी समय पर देना अब मुश्किल हो रहा है.

अगर यही रवैया रहा तो आने वाले 2 से 3 महीने के अंदर कारखाने बंद करने की स्थिति में आ जाएंगे. इतना ही नहीं कारखाने में उत्पादन पर भी असर पड़ रहा है, जिसका खामियाजा दिहाड़ी मजदूरों पर भी दिख रहा है. लगभग 3000 की संख्या में दिहाड़ी मजदूर हजारीबाग और उसके आसपास के क्षेत्रों में काम करते हैं. अगर उत्पादन पर असर पड़ेगा तो उसका असर मजदूरों पर भी पड़ेगा. उन्होंने सरकार से मांग की है कि उन्हें 24 घंटे निर्बाध बिजली मिले. अगर ऐसा नहीं हुआ तो आने वाले समय में वह आंदोलन करेंगे.





Loading...
WhatsApp chat Live Chat