Wednesday, Jan 22 2020 | Time 11:12 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
  • रेल टिकट दलालों का गोरख धंधा, गिरिडीह के मुस्तफा समेत 24 गिरफ्तार, आतंकियों से जुड़े हैं तार
  • रेल टिकट दलालों का गोरख धंधा, गिरिडीह के मुस्तफा समेत 24 गिरफ्तार, आतंकियों से जुड़े हैं तार
राजनीति


कैसे होगा सरकार के साथ संगठन विस्तार? हेमंत सरकार तय करेगी गठबंधन का भविष्य

कैसे होगा सरकार के साथ संगठन विस्तार? हेमंत सरकार तय करेगी गठबंधन का भविष्य
रांची : झारखंड में हेमंत सोरेन की सरकार गठबंधन दलों के राजनीतिक भविष्य की दिशा तय करेगी. पहली बार संसदीय राजनीति में जेएमएम और कांग्रेस के संख्या बल ने संगठन के विस्तार और उसकी मजबूती की चुनौती पेश कर दी है. राजद जैसे सहयोगी दल को भी संगठन के मोर्चे पर फिर एक बार उठ खड़े होने की संभावना बढ़ा दी है.

चुनावी परिणाम ने बदल दिया कई दलों का संसदीय इतिहास


झारखंड विधानसभा के चुनावी परिणाम ने कई दलों के संसदीय इतिहास को बदल कर रख दिया. जेएमएम की टिकट पर 30 और कांग्रेस की टिकट पर 16 विधायकों का चुनाव जीतना इस संसदीय इतिहास का ताजा उदाहरण है. राजद का भी शून्य से पीछा छुटना और एक विधायक जीतने के साथ बेहतर प्रदर्शन करना इसका उदाहरण है. गठबंधन दलों की इस बड़ी जीत के बाद हेमंत सोरेन सरकार के काम-काज पर जेएमएम, कांग्रेस और राजद का राजनीतिक भविष्य टिका है. मतलब सरकार पर रहते हुए संगठन विस्तार और उसकी मजबूती का ये बेहतर अवसर होगा और चुनौती भी. 


सांगठनिक मोर्चे पर कांग्रेस का हाथ अभी मजबूत होना बाकि


झारखंड की राजनीति में जेएमएम का संगठन और उसके राजनीति का स्टाईल दूसरे दलों से जुदा है. जेएमएम की मौजूदा जीत भी इसी का अहम हिस्सा है. राष्ट्रीय राजनीति में लगातार ढलान के बाद झारखंड में कांग्रेस का उभार संगठन के लिये एक बेहतर संदेश है. यह पहला मौका है जब कांग्रेस के हिस्से में 16 सीटें आई और कांग्रेस का हाथ झारखंड में पहले से ज्यादा मजबूत हो गया. हालांकि सांगठनिक मोर्चे पर कांग्रेस का हाथ अभी मजबूत होना बाकि है और कांग्रेस को संगठन के मोर्चे पर काफी मेहनत करनी होगी. 


राजद के अंदर टूट के बाद गठबंधन की जीत संगठन की लिये संजीवनी


झारखंड में राजद के अंदर टूट के बाद गठबंधन की जीत को संगठन की लिये संजीवनी के तौर पर देखा जा रहा है. राजद ने गठबंधन के तहत 7 सीट पर चुनाव लड़ते हुए भले ही एक सीट पर जीत हासील की हो, पर गठबंधन धर्म का पालन करते हुए हेमंत सोरेन के मंत्रिमंडल में राजद को उसका हिस्सा जरूर मिला. अब राजद इस एक सीट और मंत्रिमंडल के एक बर्थ के साथ पूरे प्रदेश में लालटेन की लौ जलाने की जुगत में जुट गई है. सामाजिक समीकरण और वोटों के ध्रुवीकरण के लिहाज से ये राजद के लिये बहुत बड़ी चुनौती भी नहीं, पर अपनी पुरानी पहचान बनाने के लिये राजद को राजनीति के मैदान में काफी पसीना बहाना होगा.

 

वैसे तो राजनीति का ये इतिहास रहा है कि जब कभी भी कोई दल सत्ता में आती है, संगठन उसका कमजोर पड़ने लगता है. हेमंत सोरेन सरकार में अब ये देखना दिलचस्प होगा की जेएमएम, कांग्रेस और राजद का संगठन सत्ता में रहते हुए पहले के मुकाबले और ज्यादा मजबूत होती है या सत्ता के घमंड में अपनी पहचान को खो देती है. 

 

 

अधिक खबरें
जेपी नड्डा के हाथों में बीजेपी की कमान, निर्विरोध चुने गये राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष
जनवरी 20, 2020 | 20 Jan 2020 | 3:54 PM

जेपी नड्डा को बीजेपी का नया अध्यक्ष चुन लिया गया है. पार्टी के राष्ट्रीय चुनाव अधिकारी राधामोहन सिंह ने जेपी नड्डा के अध्यक्ष चुने जाने की घोषणा की. राष्ट्रीय अध्यक्ष को लेकर सोमवार को नामांकन दाखिल किए गए थे.

प्रदेश अध्यक्ष और नेता प्रतिपक्ष को लेकर बीजेपी में खोज जारी
जनवरी 17, 2020 | 17 Jan 2020 | 7:24 PM

रांची : झारखंड बीजेपी में नये प्रदेश अध्यक्ष और सदन के अंदर नेता प्रतिपक्ष की खोज जारी है.

सीएम हेमंत सोरेन चैंपियन ऑफ चेंज अवॉर्ड से होंगे सम्‍मानित, #CM ने बरहेट और दुमका की जनता को किया नमन
जनवरी 16, 2020 | 16 Jan 2020 | 7:16 PM

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को झारखंड के बरहेट और दुमका विधानसभा क्षेत्र में एक जनप्रतिनिधि के रूप बेहतर और अनुकरणीय कार्य करने के लिए "चैंपियन ऑफ चेंज अवार्ड- 2019" से सम्मानित किया जायेगा.

हेमंत मंत्रिमंडल विस्तार का लोगों को इंतजार, बजट के आकार और प्रकार पर चर्चा शुरू
जनवरी 15, 2020 | 15 Jan 2020 | 9:37 AM

झारखंड की राजनीति में हेमंत सोरेन सरकार के मंत्रिमंडल विस्तार का इंतजार सबको है. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन का दिल्ली फेरा जारी है और हर फेरे के साथ मंत्रिमंडल विस्तार की संभावना प्रबल होती चली जा रही है.

#NRC और #CAA को लेकर चढ़ने लगा सूबे का सियायी पारा, मेन रोड में धारा 144 पर बयानबाजी तेज
जनवरी 15, 2020 | 15 Jan 2020 | 9:14 AM

NRC और CAA को लेकर सत्ताधारी दल जेएमएम और मुख्य विपक्षी दल बीजेपी आमने-सामने आ गई है. राजधानी रांची में जिला प्रशासन के द्वारा अल्बर्ट एक्का चौक से लेकर महात्मा गांधी मार्ग पर धारा 144 लगाये जाने पर बयानबाजी तेज हो गई है.