BREAKING

लड़कों के साथ फुटबॉल खेलने वाली हिमा इस शख्स के कारण आई ट्रैक पर, जीता गोल्ड

hima das Gold medal womens 400m final athletics championshipस्पोर्ट्स डेस्क : असम के एक साधारण किसान की बेटी हिमा दास ने आईएएएफ वर्ल्ड अंडर 20 एथलेटिक्स चैंपियनशिप के महिला वर्ग में 400 मीटर फाइनल में स्वर्ण पदक जीता है. इसी के साथ ही वह विश्व स्तर पर स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला एथलीट बन गई हैं.

हिमा से पहले भारत की किसी भी महिला ने वर्ल्ड चैंपियनशिप के किसी भी लेवल पर गोल्ड मेडल नहीं जीता था. हिमा ने 51.46 सेकंड के समय के साथ गोल्ड मेडल पर कब्ज़ा किया. हालांकि वह 51.13 सेकंड के अपने  निजी  सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन से पीछे रहीं.

कस्तूरबा अवासीय विद्यालय में नौवीं की बच्ची की मौत, सहपाठियों ने लगाया प्रताड़ित करने का आरोप




दौड़ के 35वें सेकंड तक हिमा शीर्ष तीन खिलाड़ियों में भी नहीं थी, लेकिन बाद में उन्होंने रफ्तार पकड़ी और इतिहास बना लिया. स्पर्धा के बाद जब हिमा ने गोल्ड मेडल लिया और सामने राष्ट्रगान  बजा तो उसकी आंखों में आंसू से छलक पड़े.

लड़कों के साथ फुटबॉल खेलने वाली हिमा को उनके कोच निपोन दास ने पहचाना और उन्हें एथलेटिक्स में किस्मत आजमाने की सलाह दी. लेकिन उनके परिवार वाले राजी नहीं थे. आखिरकार कोच  निपोन के आगे हिमा के परिजनों को हारना पड़ा. जिसके बाद हिमा ट्रैक पर अपनी काबिलियत की आजमाइस में जुट गई.

बता दें कि हिमा अप्रैल में गोल्ड कोस्ट में हुए राष्ट्रमंडल खेलों के 400 मीटर की स्पर्धा में 51.32 सेकंड के समय के साथ  छठे स्थान पर रही थीं. जिसके बाद गुवाहाटी में राष्ट्रीय अंतर राज्य चैंपियनशिप में 51.13 सेकंड के साथ अपने इस रिकॉर्ड में सुधार किया था.



WhatsApp chat Live Chat