एमजीएम अस्‍पताल में मानवता शर्मसार, जमीन पर बेसुध पड़े मरीज के लिए आवारा कुत्‍तों के सामने रख दिया खाना

जमीन पर बेसुध पड़े मरीज जमशेदपुर : कोल्‍हान के सबसे बड़े सरकारी अस्‍पताल एमजीएम में डॉक्‍टरों, नर्सों और स्‍वास्‍थ्‍य कर्मियों की अनदेखी और लापरवाही ने मानवता को शर्मसार किया है. सरकार के लाख प्रयास के बाद भी सरकारी अस्‍पतालों में व्‍यवस्‍था सुधरने का नाम नहीं ले रहा है. प्रबंधन और कर्मी सरकार के प्रयास पर पानी फेरते नजर आ र‍हे हैं. मालूम हो कि पिछले पांच दिनों से एक बेसहारा मरीज अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में पड़ा है उसे देखने वाला कोई नहीं है. मरीज का पैर टूटा हुआ है, जिस कारण वह चल फिर नहीं पा रहा है. मरीज डॉक्‍टरों व अस्‍पताल के कर्मियों से कई बार गुहार लगा चुका है, मगर उसकी सुनने को कोई तैयार नहीं है.

इसे भी पढ़ें : रामगढ़ : चलती एम्बुलेंस में आग लगने के बाद हुआ विस्फोट

जमीन पर बेसुध पड़े मरीज के लिए कुत्‍ते के सामने प्‍लेट में रख दिया खाना




अस्‍पताल के इमरजेंसी वार्ड में पांच दिनों से पड़े मरीज को अस्‍पताल के कर्मियों ने खाना उस वक्‍त दिया जब वह बेसुद पड़ा था. वहां कई आवारा कुत्‍ते भी घूम रहे थे. मगर इसकी परवा‍ह किये बिना अस्‍पताल के कर्मियों ने जमीन पर पड़े मरीज के पास प्‍लेट में कुत्‍तों के सामने खाना रखकर चले गये. मरीज तो उस खाने को नहीं खा सका, मगर वहां घूम रहे आवारा कुत्‍ते ने उस खाना को खा लिया. इस घटना ने एमजीएम अस्‍पताल को शर्मसार किया है.

इसे भी पढ़ें : निधि खरे ने किया सदर अस्‍पताल का निरीक्षण, कहा- थैलेसिमिया व सिकल सेल एनीमिया के लिए बनेगा डे केयर सेंटर

फर्श पर मरीज को खाना देने के मामले को लेकर रिम्‍स की हो चुकी है किरकिरी

इससे पहले रांची रिम्‍स में भी एक मरीज को अस्‍पताल के कर्मियों ने फर्श पर खाना दे दिया था. मीडिया में खबरें चलने के बाद इस मामले को लेकर रिम्स की बहुत किरकिरी हुई थी. रिम्‍स में किचन संभालने वाली एजेंसी को उस वक्‍त खूब लतारा गया था.

इसे भी पढ़ें : हेमंत ने 13 एकड़ से ज्यादा बेशकीमती जमीन लाखों में खरीदी





WhatsApp chat Live Chat