इंडोनेशिया ने मांगा अंतरराष्ट्रीय सहयोग, एक हजार से अधिक शवों के लिए खोदी सामूहिक कब्र

heavy catastrophe, 420-deaths due earthquake tsunami Indonesiaनई दिल्ली: भूकंप और सुनामी से तबाह हो चुके सुलावेसी में सोमवार को एक हजार से अधिक शवों के लिए सामूहिक कब्र खोदा गया. आपदा के कारण मची इस तबाही से निपटने के लिए अधिकारियों ने अंतर्राष्ट्रीय सहयोग मांगा है.

आपदा के चार दिन बीत जाने के बाद भी दूरदराज के कई इलाकों से संपर्क नहीं हो पा रहा है. यहां लोग दवाइयों की कमी की समस्या से जूझ रहे हैं. वहीं बचावकर्ता मलबे में दबे पीड़ितों को निकालने के लिए आवश्यक उपकरणों की कमी से जूझ रहे हैं. राष्ट्रपति जोको विडोडो ने कई अंतर्राष्ट्रीय सहायता एजेंसियों तथा गैर सरकारी संगठनों के लिए दरवाजा खोल दिया है.

वरिष्ठ सरकारी अधिकारी टॉम लेमबोंग ने ट्विटर पर बचावकर्ताओं से कहा है कि वह उनसे सीधे संपर्क में रहें. उन्होंने लिखा है कि राष्ट्रपति जोकोवी ने अंतर्राष्ट्रीय  मदद के लिए हमें अधिकृत किया है, ताकि तत्काल राहत पहुंचाया जा सके.




पालू के पहाड़ी इलाके में स्वयंसेवकों से शवों को दफनाने के लिए 100 मीटर लंबी कब्र खोदी है. उन्हें 1300 शवों को दफनाने की तैयारी करने के लिए कहा गया था. वहीं प्राकृतिक आपदा के बाद ख़राब हो रहे शवों के कारण फ़ैल रही बीमारियों को रोकने के लिए अधिकारी संघर्ष कर रहे हैं. साथ  ही यहां 14 दिन का आपातकाल घोषित किया गया है.

पालू में एक व्यक्ति ने एएफपी को बताया कि कोई सहायता नहीं है, हम भूख से तड़प रहे हैं. हमारे पास दुकानों को लुटने के सिवा और कोई रास्ता नहीं है. हमें भोजन चाहिए. सरकारी अधिकारियों के अनुसार यहां तीन जेल से करीब 12,00 कैदी फरार हो गए हैं. आपदा प्रबंधन एजेंसी ने बताया कि सुनामी की चेतावनी देने वाली प्रणाली अगर काम करती तो ज्यादा लोगों की जानें बचाई जा सकती थी. लेकिन आर्थिक अभाव में छह साल से ख़राब है.





WhatsApp chat Live Chat