बच्चों की पिटाई का वीडियो पोस्ट करने का मामला : राहुल गांधी को नोटिस जारी, दस दिनों के अंदर मांगा जवाब

Mumbai : राहुल गांधी से, सोशल मीडिया पर दो नाबालिग बच्चों की पिटाई का वीडियो पोस्ट करने के संबंध में महाराष्ट्र स्टेट कमीशन फॉर प्रोटेक्शन ऑफ चाइल्ड राइट्स ने जवाब मांगा है. जुवेनाइल जस्टिस (केयर एंड प्रोटेक्शन) एक्ट 2015 की धारा 109 और पॉक्सो एक्ट की धारा 23 के तहत नाबालिग पीड़ितों का वीडियो प्रकाशित करना गैरकानूनी है. राहुल गांधी को वीडियो पोस्ट करने के मामले में कमीशन के सामने दस दिनों के भीतर जवाब देना होगा.

इसे भी पढ़ें – नौ दिन बाद सीएम अरविंद केजरीवाल का धरना खत्म

जलगांव में दबंगों ने की थी दलित युवकों की पिटाई

बता दें किछ दिन पहले ही महाराष्ट्र के जलगांव जिले में दो दलित भाइयों के गांव के एक कुएं में नहाने से नाराज दबंगों ने उन्हें बहुत बुरी तरह से पीटा था। यही नहीं, बाद में इन दोनों को निर्वस्त्र कर उनका जुलूस भी निकाला गया था. घटना के बाद अब तीन दिन बाद इस मामले से जुड़ा एक वीडियो वायरल हुआ जिसके बाद इस मामले पर विवाद गहरा गया. दोनों नाबालिग लड़कों में से एक की मां ने थाने पहुंचकर केस दर्ज करवाया था.




इस मामले में कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने अपने ट्विटर अकाउंट पर इन बच्चों की पिटाई का वीडियो शेयर किया था. इस वीडियो के साथ ही उन्‍होंने लिखा था, ”महाराष्ट्र के इन दलित बच्चों का अपराध सिर्फ इतना था कि ये एक “सवर्ण” कुएं में नहा रहे थे. आज मानवता भी आखिरी तिनकों के सहारे अपनी अस्मिता बचाने का प्रयास कर रही है. RSS/BJP की मनुवाद की नफरत की जहरीली राजनीति के खिलाफ हमने अगर आवाज़ नहीं उठाई तो इतिहास हमें कभी माफ नहीं करेगा.

इसे भी पढ़ें – जमशेदपुर: थम नहीं रहा उग्र भीड़ का आतंक, अब लोगों ने पुलिस को दौड़ाकर पीटा

इसे भी पढ़ें – अब झारखण्ड पुलिस से बच नहीं पाएंगे साइबर अपराधी, लैब करेगा बेनकाब





Loading...
WhatsApp chat Live Chat