BREAKING

अब झारखण्ड पुलिस से बच नहीं पाएंगे साइबर अपराधी, लैब करेगा बेनकाब

Jharkhand police program to end cyber crime रांची: मुंबई पुलिस के तर्ज पर अब झारखण्ड पुलिस ने भी राज्य को साइबर अपराध से मुक्त करने की ठान ली है. इसी के तहत झारखण्ड में भी हाईटेक फोरेंसिक लैब बनाया जाएगा. राज्य सरकार ने भी इसके लिए झारखण्ड पुलिस का सहयोग करने का फैसला किया है और महकमे को 1.6 करोड़ रुपए आवंटित कर दिया है.




योजना के अनुसार, ये लैब कचहरी चौक के पास बने आटीएस ट्रेनिंग स्कूल की बिल्डिंग में खोला जाएगा. इस योजना के लिए झारखण्ड पुलिस के एक अधिकारी को मुंबई दौरे पर भेजा गया था. वहां से हर तरह की तकनीकी जानकारी के साथ अधिकारी वापस लौट आए हैं और अब इस योजना पर काम शुरू कर दिया है.

इस लैब के जरिए झारखण्ड पुलिस साइबर क्राइम रोकने की कोशिश करेगी. सोशल साइट्स के जरिए अफवाह फैलाने वालों पर भी निगरानी रखी जाएगी और उन पर एक्शन लिया जाएगा.

कहा जा रहा है कि इस लैब में कुल 365 कंप्यूटर एक्सपर्ट्स को रखा जाएगा. साथ ही एक लाख की सैलरी पर जूनियर फोरेंसिक कंसल्टेंट को भी बहाल किया जाएगा. अब देखना ये है कि झारखण्ड पुलिस इस लैब के जरिए साइबर अपराध पर कितना कंट्रोल कर पाएगी.



WhatsApp chat Live Chat