मानसून सत्र का आखिरी दिन आज, विपक्ष एक बार फिर कर सकता है हंगामा

jharkhand vidhansabha last day Considering other issues including land acquisitionरांची : झारखंड विधानसभा मानसून सत्र का शनिवार को आखिरी दिन है. मानसून सत्र के आखिरी दिन सत्ता पक्ष कुछ विधेयक पारित करा सकती है. वहीं भूमि अधिग्रहण समेत अन्य मुद्दों को लेकर विपक्ष एक बार फिर सरकार को घेर सकती है. 

इससे पहले मानसून सत्र के पांचवें दिन शुक्रवार को विधानसभा में 10 मिनट के अंदर झारखंड जल, गैस एवं ड्रेनेज पाइप लाइन विधेयक-2018 समेत 9 विधेयक पारित किए गए.

दलबदल का मामला जोर-शोर से उठा

मानसून सत्र के पांचवे दिन झारखंड विधानसभा में 6 विधायकों के दलबदल का मामला जोर शोर से उठा. जे वी एम विधायक प्रदीप यादव ने इस मामले को कार्यस्थगन प्रस्ताव के माध्यम से उठाते हुए सरकार से सीबीआई जांच की मांग की. उनका आरोप था कि यह मामला विधानसभा सचिवालय , चुनाव आयोग और राज्यपाल के पास पहले से होने के नाते इसकी जांच सीबीआई से होनी चाहिए. अगर ऐसा नहीं होता है मतलब साफ है कि कहीं ना कहीं दाल में काला है. सदन में दल बदल का मामला उठते ही बीजेपी के कई विधायकों ने आसन से विशेषाधिकार हनन का मामला चलाने की मांग की. बीजेपी विधायकों ने चुनौती देते हुए कहा कि बाबूलाल मरांडी प्रमाणित करें कि पैसे का लेनदेन हुआ है. नगर विकास मंत्री ने सदन में कहा कि बाबूलाल मरांडी का यह चरित्र शोभा नहीं देता , वो होटवार जेल जायेंगे.




बीजेपी विधायक को जान से मारने की धमकी का मामला सदन में उठा

BJP के सचेतक और राजमहल से विधायक अनंत ओझा को सपरिवार जान से मारने की बार-बार मिल रही धमकी का मामला सदन में उठा. विपक्ष और सत्ता पक्ष के भारी हो हंगामे के बीच BJP के मुख्य सचेतक राधा-कृष्ण किशोर ने इस मुद्दे पर सदन का ध्यान आकृष्ट कराया. सदन में यह मामला उठते ही आनंद ओझा ने भी अपनी व्यथा सदन के अंदर रखी और राज्य सरकार से मामले में पहल करने का आग्रह किया. सदन में सत्ताधारी दल के विधायक को जेल में कैद एक अपराधी द्वारा लगातार फोन पर धमकी दिए जाने का मामला उठते ही विपक्ष ने सरकार को निशाने पर लिया .  नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि सरकार को शर्म आनी चाहिए.

धनबाद: जमीनी आग से बंद पड़े चन्द्रपुरा रेल लाइन का अधिकारियों ने किया निरीक्षण

देशद्रोह का मसला स्टीफन मरांडी ने उठाया

झारखंड विधानसभा के मानसून सत्र में एक बार फिर नगर विकास मंत्री सीपी सिंह विपक्ष के निशाने पर रहे.  नगर विकास मंत्री द्वारा सदन में नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन और जेवीएम विधायक प्रदीप यादव को देशद्रोही कहे जाने का मसला स्टीफन मरांडी ने उठाया. स्टीफन मरांडी ने कहा कि सदन के अंदर एक मंत्री का ऐसा वक्तव्य सही नहीं है और उन्हें इसके लिए खेद प्रकट करनी चाहिए.  विपक्ष की तरफ से  यह मांग उठते ही सदन के अंदर हंगामा शुरू हो गया . सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच इस मुद्दे को लेकर काफी देर तक  कहा सुनी होती रही.

विपक्ष ने कहा कि यह मानसून सत्र काला कानून सत्र के रूप में याद किया जाएगा. विपक्ष इस लेकर राज्यपाल के पास जाएगा.





Loading...
WhatsApp chat Live Chat