मजदूरों की समस्‍याओं को लेकर झामुमो ने खोला मोर्चा, 22 को एसडीओ कार्यालय के समक्ष प्रदर्शन

बैठक करते झामुमो नेता घाटशिला : झामुमो जिला अध्यक्ष रामदास सोरेन ने कहा कि कंपनी में काम के दौरान करंट से मरे भक्ते बहादुर को अभी तक कंपनी की ओर से सिर्फ आश्वासन ही मिला है. कंपनी प्रबंधन ने तथाकथित यूनियन के साथ मिलकर भक्ते बहादुर के परिजनों को छह लाख मुआवजा देने की बात कह शव को रातोंरात उठवा लिया, लेकिन अभी तक फूटी कौड़ी तक नहीं दिया. झामुमो भक्ते बहादुर के मुद्दे के साथ-साथ मजदूरों की अन्य समस्याओं को लेकर 22 जून को एसडीओ कार्यालय पर धरना-प्रदर्शन करेगा.

इसे भी पढ़ें : बीजीएच से भर्ती शुल्‍क व कैशलेस व्‍यवस्‍था हटाने की मांग,  झाविमो ने किया प्रदर्शन  




मजदूरों के साथ छलावा कर रहा कंपनी प्रबंधन

रामदास सोरेन सोमवार को होटल आकाशदीप में आयोजित संवाददाता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे. उन्‍होंने कहा कि कंपनी प्रबंधन यूनियन के साथ मिलकर 50 मजदूरों की बहाली की स्वीकृति मिलने के बाद भी मजदूरों की बहाली नहीं कर रहा है. उन्होंने आर्यन ठेका कंपनी के बारे में कहा कि कंपनी न पेमेंट स्लिप, न गेट पास और न ही पीएफ दे रही है तो मजदूरों से कैसे काम करा रही है. इन सब मुद्दों को लेकर 22 जून को दाहीगोड़ा सर्कस मैदान से विशाल बाइक रैली निकालकर एसडीओ कार्यालय के समक्ष प्रदर्शन किया जायेगा. मौके पर कान्हू सामंत, बाधराय मार्डी, रामदास हांसदा, जगदीश भगत, गौरांग महली, रवींद्र मार्डी, रायसेन सोरेन, रहमत खान, मृत्युंजय यादव, सतीश सीट समेत कई झामुमो नेता उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें : बोकारो : घरेलू कलह की वजह से वृद्ध ने की आत्महत्या, ग्रामीणों के हंगामे के बाद बहू गिरफ्तार





WhatsApp chat Live Chat