LIC को 51 फीसदी हिस्सेदारी बेच सकती है आईडीबीआई बैंक

LIC IDBI SHARE HISSEDARI NPAमुंबई : सरकार आईडीबीआई बैंक में 51 फीसदी हिस्सा भारतीय जीवन बीमा निगम(एलआईसी) को बेचने के प्रस्ताव पर विचार कर रही है. अगर यह कदम सफल होता है तो सार्वजनिक क्षेत्र की  बीमा कंपनी के पास आईडीबीआई की बहुलांश हिस्सेदारी होगी.

सरकार की अभी बैंक में 81फीसदी हिस्सेदारी है जबकि एलआईसी के पास बैंक का करीब 11 फीसदी हिस्सा है. आईआरडीए नियम के अनुसार कोई भी इनसुरेंस कंपनी किसी भी दूसरी कंपनी में 15फीसदी से ज्यादा की हिस्सेदारी नहीं खरीद सकता. इस नियम के मद्देनजर एलआईसी ने आईआरडीए से कुछ छुट की मांग की है.




रांची में है मुरादें पूरी करने वाला दुर्लभ पेड़, एक मुस्लिम करता है इनकी देखभाल

आईडीबीआई बैंक भी उन बैंकों में शामिल है जिसका एनपीए बहुत ज्यादा है. रिज़र्व बैंक के अनुसार आईडीबीआई का सकल एनपीए 550.34 अरब रूपए है. इनमें से कुछ एनपीए खाते रिज़र्व बैंक द्वारा राष्ट्रीय कंपनी के पास भेजी गई कंपनियों की पहली सूची में शामिल है. इस कारोबारी साल में आईडीबीआई को 18 हजार करोड़ रूपए पूंजी की जरुरत है. ऐसे में  सरकार के पास इसमें विनिवेश के अलवा कोई विकल्प नहीं है.





WhatsApp chat Live Chat