दोहरे हत्याकांड के आरोपी को आजीवन सश्रम कारावास, मामूली विवाद में पीतांबर ने कर दी थी नाई की हत्या

पीतांबरबोकारो : बोकारो के अपर सत्र न्यायधीश- द्वितीय जनार्दन सिंह की अदालत ने सोमवार को दोहरे हत्याकांड के एक महत्वपूर्ण मामले की सुनवाई करते हुए पीतांबर यादव नामक दोषसिद्ध अभियुक्त को सश्रम आजीवन कारावास तथा 25 हजार रुपये जुर्माना की सजा सुनाई. जुर्माना नहीं देने की स्थिति में उसे दो वर्ष का अतिरिक्त सश्रम कारावास भुगतना होगा. मामले के अपर लोक अभियोजक आरके राय ने इस संदर्भ में जानकारी देते हुए बताया कि अदालत ने सत्रवाद संख्या-241/17 की सुनवाई में भादवि की धारा 302 के तहत पीतांबर को बीते गुरुवार को दोषी करार दिया था. उन्होंने बताया कि विगत 16 जून, 2017 को नगर के सेक्टर-12 स्थित अंबेडकर चौक पर पीतांबर यादव ने एक मामूली विवाद को लेकर सैलून चलाने वाले नाई दिलीप ठाकुर की हत्या तलवार-भुजाली से कर दी थी. दिलीप को बचाने आए राशन दुकानदार जयंतो दत्ता को भी उसने मौत के घाट उतार दिया था. इस संदर्भ में सेक्टर- 12 थाना कांड संख्या 34/17 के तहत मामला दर्ज किया गया था. अदालत ने दोनों मृतकों की विधवाओं को मुआवजा देने का आदेश भी दिया है.

उल्लेखनीय है कि 17 जून, 2017 की सुबह लगभग साढ़े छह बजे सेक्टर-12 थाना क्षेत्र अंतर्गत 12बी मोड़ पर अम्बेदकर चौक के समीप सैलून चलाने वाले दिलीप ठाकुर और राशन दुकानदार जयंतो दत्ता की नृशंस हत्या बगल के ही भूंजा दुकानदार पीतांबर यादव ने तलवार और भुजाली से कर दी थी. लकड़ीगोला निवासी दिलीप ठाकुर अपनी दुकान खोल बगल से पानी लाने जा रहा था. इसी क्रम में किसी बात को लेकर हुए विवाद के बाद पीतांबर ने अपने घर से धारदार हथियार लाकर उस पर हमला बोल दिया था. वह उसे सड़क पर पटक-पटककर तथा तलवार और भुजाली से मारने लगा. यह देख बगल का राशन दुकानदार जयंतो दत्ता दिलीप को बचाने के लिए दौड़ पड़ा, लेकिन पीतांबर ने उस पर भी तलवार से वार कर दिया. दोनों के पेट में उसने धारदार हथियार से प्रहार किया. दोनों जब गंभीर हालत में आकर अचेत हो गये तो पीतांबर वहां से भाग बगल की झोपड़पट्टी स्थित अपने घर में जा भागा. इस बीच बड़ी संख्या में आसपास के लोग मौके पर जमा हो गए. उन्होंने आनन-फानन में दिलीप और जयंतो को बोकारो जेनरल अस्पताल पहुंचाया, जहां दोनों की मौत हो गयी थी. दोनों की उम्र 40-45 वर्ष के आसपास थी.

दोनों का पहले भी विवाद हुआ था, जिसे सुलझाया गया था, लेकिन आपसी वैमनस्य जारी था. दूसरी ओर, बोकारो स्टील के नगर सेवाएं विभाग ने हत्यारोपी पीतांबर के अवैध घर और दुकान को ध्वस्त कर दिया था.



Loading...
WhatsApp chat Live Chat