BREAKING

मलेशिया में फंसे मजदूरों की गुहार, ‘साहब हमें अपने वतन वापस बुला लो!’

-‘साहब हमें अपने वतन वापस बुला लो!’

– मलेशिया में फंसे मजदूरों ने लगायी स्वदेश लौटने की गुहार

– सोशल मीडिया पर मदद की अपील

Malaysia workers stranded returnबोकारो : जिले के गोमिया प्रखंड अंतर्गत चतरोचट्टी के छह, विष्णुगढ़ प्रखंड के एक और एक तोपचांची, धनबाद क्षेत्र से ताल्लुक रखने वाले कुल आठ मजदूरों ने मलेशिया से स्वदेश लौटने की गुहार लगाई है. सोशल मीडिया के माध्यम से उक्त सभी मजदूरों ने भारत सरकार व झारखंड सरकार के नाम त्राहिमाम संदेश भेजा है. इतना ही नहीं, मीडिया की मदद से वहां फंसे मजदूरों की उपायुक्त मृत्युंजय कुमार वर्णवाल से फोन पर बात भी हुई है. उन्होंने अपने वतन हिन्दुस्तान वापस बुलाने की गुहार डीसी से लगाई है.

मालूम हो कि यह कोई पहला ऐसा मौका नहीं है जब ठेकेदारों और दलालों के मोहजाल में फंसकर, विदेश में नौकरी और अच्छी तनख्वाह की आस में ठगे गए हों. जब वहां मेहनत अधिक और कम मेहनताना पर काम कराया जाता है तो मजदूर ठगे से महसूस करते हैं तो वापसी की गुहार लगाते हैं. पलायन के इस दंश ने कई श्रमिकों की जान भी ले ली है. बेटे द्वारा कमाए धन के बजाय जब परदेस से उनकी लाश आती है, तो माता-पिता की उम्मीद पर ही नहीं, उनके पूरे जीवन और सपनों पर कुठाराघात होता है.

जल्द कराएंगे सकुशल वापसी : उपायुक्त

मजदूरों से दूरभाष पर वार्ता के बाद उपायुक्त वर्णवाल ने इसे संवाददाता को बताया कि अब जिला प्रशासन का यह प्रयास होगा कि जल्द से जल्द वहां फंसे हुए मजदूरों को जल्द से जल्द वापस यहां लाया जाए. इसके लिए दूतावास स्तर से बातचीत की जाएगी. पूर्व में भी मजदूरों के मलेशिया में होने की बात सामने आई थी और प्रशासन ने दूतावास स्तर से वार्ता कर उन्हें  सकुशल वापस उनके घर तक पहुंचाया था.



कंपनी के बजाए जंगल में कराया जा रहा काम

डीसी ने एक खास बातचीत में बताया कि जितने भी मजदूर मलेशिया में फंसे हुए हैं, उन लोगों को चेन्नई का एक दलाल झूठे सब्जबाग दिखाकर और अच्छे पैसे का लालच दिलाकर वहां ले गया था, लेकिन वह कंपनी में काम के बजाय उनलोगों से जंगल में काम कराया जाता है. जहां सांप सहित कई खतरनाक जीव-जंतु निकलते रहते हैं.  उक्त फंसे मजदूर वहां सन्तुष्ट नहीं हैं और वापस अपने घर लौटना चाहते हैं.

Labor intensive

उपायुक्त ने कहा कि चेन्नई के उस कबूतरबाज के खिलाफ कानूनी कार्रवाई होगी. तमिलनाडु पुलिस से बात कर इस संबन्ध में कार्रवाई की जाएगी. उपायुक्त ने यह भी कहा कि इस तरह के मामले में और लालच में फंसने के बजाय लोग स्वयं अच्छी तरह से कंपनी आदि के बारे में सटीक जांच-पड़ताल कर लें. जरूरत होगी तो प्रशासन भी उनकी मदद करेगा, लेकिन इस तरह से लालच में वे न पड़ें.

मलेशिया में फंसे झारखण्ड के मज़दूर सोशल मीडिया के ज़रिये वतन वापसी की लगा र‍हे गुहार

नहीं थम रहे परिजनों के आंसू

मलेशिया में बढ़िया काम और बढ़िया पैसे के झांसे में पड़कर फंसने वाले मजदूरों के परिजनों के आंसू थमने का नाम नहीं ले रहे. उन्होंने भी प्रशासन से मदद की फरियाद की है. वहां फंसे मजदूरों में बोकारो जिले के चतरोचट्टी थाना क्षेत्र अंतर्गत हुरलूंग के मो. साबिर अंसारी, बालदेव पंडित, तिलेश्वर पटेल, सौरभ कुमार महतो, टेकलाल महतो, सिधाबारा के सरजू महतो, हजारीबाग जिले के बिष्णुगढ थाना क्षेत्र के नागी के रहनेवाले संजय महतो व धनबाद जिले के तोपचांची के रहनेवाले संजय महतो के नाम शामिल हैं.



WhatsApp chat Live Chat