तृतीय वैज्ञानिक सलाहकार समिति की बैठक में किसानों को बताये गये कम पानी में बेहतर खेती के तरीके  

बैठकमांडू कृषि विज्ञान केंद्र को देश में दूसरा और झारखण्ड में पहला मिला

मांडू (रामगढ़) : मांडू कृषि विज्ञान केंद्र देश का दूसरा और झारखण्ड का पहला केंद्र बनने पर तृतीय वैज्ञानिक सलाहकार समिति की बैठक की गई. झारखण्ड-बिहार के छह निदेशकों ने बैठक में हिस्सा लिया. इस दौरान किसानों को उन्नत खेती के लिए दिए कई सुझाव.

बैठक में दर्जनों किसानों को उन्नत खेती के साथ-साथ कम पानी में भी खेती करने का बेहतर सुझाव दिया. मौके पर डायरेक्टर icar-iiab रांची टीआर शर्मा व डॉ.  बीपी भट्ट icer-icer पटना सहित छह सदस्‍यीय टीम ने जिले के विभिन्न गांव से आये किसानों को हर मौसम में सभी तरह की सब्जियां व उन्नत किस्म के धान की पैदावारी के कई महत्वपूर्ण जानकारी दी.

इस दौरान जिले के विभिन्न जगहों से आये किसानों ने भी खेती के दौरान आने वाली समस्याओं को रखा. मौके पर पटना से पहुंचे डायरेक्ट icer-icer  डॉ. बीपी भट्ट ने कहा कि मांडू कृषि विज्ञान केंद्र देश में दूसरा और झारखण्ड में पहला स्थान प्राप्त किया है. खासकर महिला कृषक जो कृषि के माध्‍यम से किसी तरह आजीविका चलाती है, उसमें प्रथम स्थान मिला है. हमारे पास सीमित संसाधन होते हुए मैन पावर की भी कमी होने के बावजूद जिस तरह से यह केंद्र राज्य व देश में नाम कर रहा है, वह बहुत ही सराहनीय है. इसी को लेकर वैज्ञानिक सलाहकार समिति की बैठक की गई. जिसमें पूरे साल भर तक क्या-क्या वर्क किया जायेगा, इसपर मंथन किया गया और जिले के कई क्षेत्रों से आये किसानों को बेहतर खेती के लिए कई सुझाव दिये गये.



Loading...
WhatsApp chat Live Chat