नारद मुनि को कई लड़कियों से हुआ था प्रेम, इनके श्राप के कारण किसी से नहीं कर पाए शादी

Narad ji remains unmarried lifetime due to this reasonधर्म: भगवान नारद काफी चपल स्वभाव के हैं. जगह से जगह भटकना उनके कार्यों में शामिल है. लेकिन क्या आप जानते हैं, उन्हें किसी के श्राप के कारण हर जगह भटकना पड़ता है? जी हां, भगवान नारद को श्राप दिया गया था, जिसकी वजह से वो किसी एक जगह टिक नहीं पाते और हमेशा भ्रमण पर रहते हैं. साथ ही उन्हें किसी के श्राप के कारण कभी शादी करने का सुख नहीं मिल पाया.

किम्वदंती के अनुसार, भगवान ब्रह्मा जब जगत का निर्माण कर रहे थे, तब उनके चार पुत्र हुए थे. इनमें नारदजी भी शामिल हैं. देव लोक के दूत कहे जाने वाले नारद जी को अपने पिता भगवान ब्रम्हा से ही जीवनभर अविवाहित रहने का श्राप मिला था. ब्रह्मावैवर्त पुराण में लिखी कहानी के अनुसार जब ब्रम्हा जी सृष्टि का निर्माण कर रहे थे तब हुए चार पुत्रों में से एक नारद जी को ब्रह्मा जी ने उनकी मदद करने और शादी करने को कहा. इसे नारद जी ने मना कर दिया.




अपनी आज्ञा की अवहेलना होता देख ब्रह्मा जी को गुस्सा आ गया और उन्होंने नारद जी को श्राप दे दिया कि वो जीवन भर अविवाहित रहेंगे. उन्हें कई बार प्रेम होगा लेकिन किसी से शादी नहीं कर पाएंगे. साथ ही चूंकि वो जिम्मेदारियों से भागते हैं, इस कारण वो हर समय भटकते रहेंगे. इस श्राप के ही कारण नारद जी को प्रेम तो कई लड़कियों से हुआ, लेकिन शादी किसी से नहीं कर पाए.





WhatsApp chat Live Chat